लोग मुझे एक वास्तविक पुलिस अधिकारी समझते थे": परमवीर सिंह चीमा



 


हाल ही में, अनुभवी अभिनेता पवन मल्होत्रा और सुप्रिया पाठक सोनी लिव के पारिवारिक थ्रिलर 'तब्बार' के लिए एक साथ स्क्रीन पर दिखाई दिए। शो को काफी अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है और परमवीर सिंह चीमा, जो एक पुलिस वाले यानी लखविंदर सिंह उर्फ लकी की भूमिका निभा रहे हैं, को उनके अभिनय के लिए फैंस तथा दर्शकों से समान रूप से प्रशंसा मिल रही है।


जब परमवीर से पूछा गया कि क्या उन्हें अपने किरदार के लिए वास्तविक जीवन से कोई प्रेरणा मिली, तो उन्होंने साझा किया, "मैंने पंजाब में बहुत सारे पुलिस वाले देखे हैं और जब मैं लकी की तैयारी कर रहा था, तो मुझे एहसास हुआ कि बहुत कम ही पुलिस वाले इस किरदार के समान हैं, जो कि वास्तव में वफादार हैं और भ्रष्ट नहीं हैं। इसलिए, इसे निभाना मेरे लिए बेहद चुनौतीपूर्ण था, क्योंकि कुछ अद्भुत पुलिस वाले हैं, जो बेहद कर्तव्यनिष्ठ हैं। मैं उनके इस किरदार में जिंदादिली से उतरना चाहता था और पुलिस का अच्छा पक्ष दिखाना चाहता था। मेरे पिताजी के एक दोस्त हैं, जिनका नाम एसीपी कहलोन है। अपनी तैयारी के लिए मैं उनके साथ दो दिनों के लिए पुलिस स्टेशन गया, यह देखने के लिए कि वे कैसे काम करते हैं, बोलते हैं, खड़े होते हैं और परिस्थितियों पर प्रतिक्रिया करते हैं। इस तरह मैं अपने किरदार लखविंदर सिंह में गहनता से उतरने में सक्षम हो सका।"


 


रियल लाइफ ही नहीं परमवीर को रील लाइफ में भी प्रेरणा मिली। वे कहते हैं, "मैं इंडस्ट्री में जिस पुलिस वाले का अनुसरण करता हूँ, वह अजय देवगन की सिंघम है। वह एकदम सही किरदार है, जो कभी कुछ गलत नहीं होने देता। मुझे उनकी ऊर्जा बहुत पसंद है, जो वे किसी सीन में डालते हैं और जिस तरह से वे अपनी आंखों से खेलते हैं, वह वास्तव में देखने लायक होता है। मैं हमेशा से ऐसा ही किरदार निभाना चाहता था क्योंकि जब भी मैं सिंघम को देखता था तो मेरे रोंगटे खड़े हो जाते थे। इसलिए, जब मुझे अपने किरदार लकी के बारे में पता चला, तो मेरे दिमाग में सबसे पहला ख्याल सिंघम का ही आया।"


 


परमवीर ने खुलासा किया कि वर्दी पहनने से सेट पर उनके भीतर एक स्वत: बदलाव आया। वे कहते हैं, "जब मैं वर्दी में किरदार के लिए तैयार होता था, जिस पर सितारे होते थे, तो वह एक अलग ही स्तर का एहसास देता था। मैं पगड़ी बांधता था और उस पर पंजाब पुलिस का चिन्ह लगा रहता था, यह जैसे मुझे एक ऑटोमैटिक स्विच में ऑन के देता था और मेरे हाव-भाव पूरी तरह बदल जाते थे। मैं आमतौर पर एक आलसी आदमी हूँ, लेकिन वर्दी ने मुझमें एक अनोखी फुर्ती भर दी।"


 


सेट पर और वर्दी में अपने पहले दिन को याद करते हुए परमवीर साझा करते हैं, "पहले दिन जब मैंने वर्दी पहनी थी, मेरी एडी मुझे कार में लेने के लिए मेरी वैन में आई, लेकिन मैंने उससे कहा कि मैं इस किरदार को महसूस करने के लिए चलकर देखना चाहता हूँ। जब मैं चल रहा था, तो अजय सर ने मुझे दूर से देखा और कहा कि मैं एक असली पुलिस वाले की तरह दिखता हूँ। इस प्रकार वे मुझसे बहुत प्रभावित हुए।"


 


अभिनेता ने साझा किया कि वे अपने किरदार में इस कदर उतर गए कि उनके आसपास के लोग भी यह समझ पाने में असमर्थ थे कि वे रियल पुलिस वाले हैं या रील पुलिस वाले। परमवीर मुस्कुराकर कहते हैं, "कई बार ऐसा हुआ कि जब हम पुलिस स्टेशन में शूटिंग करते थे, जो एक वास्तविक पुलिस स्टेशन था, तो वहाँ के लोग मुझे एक वास्तविक पुलिस वाला समझते थे। यहाँ तक कि अभिनेता भी मुझे देखकर अपना रुख बदल लेते थे और फिर अपना पक्ष रखते थे कि उन्होंने अभिनेता होने के नाते मेरे सामने अपना रास्ता इसलिए बदल लिया कि कहीं मैं उनका चालान न बना दूँ। लोगों का मुझे एक वास्तविक पुलिस अधिकारी के रूप में देखना वास्तव में प्रामाणिक था।"

Popular posts
हम फिल्म को यथासंभव वास्तविक रखना चाहते थे": नवोदित निर्देशक सुदर्शन गामारे*
Image
*हीमोलिम्फ' का ट्रेलर लांच* - फिल्म 27 मई 2022 को रिलीज हो रही है। - अब्दुल वाहिद शेख के वास्तविक जीवन की घटनाओं पर आधारित ट्रेलर लिंक: "आखिर में जीत सच्चाई की ही होती है, लेकिन इसे सामने लाने के लिए कष्ट उठाना पड़ता है," जॉर्ज वाशिंगटन के इस कथन से प्रेरणा लेते हुए निर्देशक सुदर्शन गमरे ने फिल्म 'हेमोलिम्फ- द इनविजिबल ब्लड' से डेब्यू किया है। आज रियल वाहिद शेख की मौजूदगी में, निर्माताओं ने फिल्म का ट्रेलर लांच किया। इस मौके पर, निर्देशक सुदर्शन और अभिनेता रियाज़ अनवर उपस्थित थे। रियाज़ अनवर फिल्म में वाहिद शेख की भूमिका निभा रहे हैं। हीमोलिम्फ, एक शिक्षक अब्दुल वाहिद शेख के जीवन की वास्तविक कहानी है, जिस पर 11 जुलाई 2006 को मुंबई ट्रेन बम विस्फोट के बाद गंभीर धाराओं में आरोप लगाए गए थे। इन आरोपों ने वाहिद के साथ ही उसके परिवार को भी झंझोड़ दिया था। फ़िल्म निर्माताओं ने न्याय के लिए वाहिद के संघर्ष को रुपहले पर्दे के माध्यम से लोगों के बीच रखने की कोशिश की है। ट्रेलर में, गलत तरीके से फँसाए गए एक मासूम स्कूल अध्यापक की पीड़ा और उसकी हार ना मानने के संकल्प को दिखाया गया है। 2.09 मिनट के ट्रेलर में वाहिद और उसके परिजनों की न्याय पाने के लिए उठाने पड़ रहे दुश्वारियों को पर्दे पर दिखाया गया है। फ़िल्म के बारे में बात करते हुए, निर्देशक सुदर्शन गामारे ने कहा, "यह मेरी पहली फिल्म है, और कहानी मेरे दिल के बहुत करीब है। मैं पिछले कुछ सालों से इस कहानी को महसूस कर रहा था और चाहता था कि हर कोई झूठे आरोपों में फंसाए गए एक आम आदमी की कहानी को सुने-देखे और महसूस करने की कोशिश करे। मैं टीजर और पोस्टर से मिली प्रतिक्रिया से बहुत उत्साहित हूँ और उम्मीद करता हूँ कि ट्रेलर को भी ऐसी ही प्रतिक्रिया मिलेगी।" फिल्म के बारे में पूछे जाने पर, रियल अब्दुल वाहिद शेख ने बताया, "मेरी आपबीती पर फिल्म बनाने के लिए कई लोगों ने मुझसे संपर्क किया, लेकिन सुदर्शन के दृढ़ विश्वास ने मुझे फिल्म के लिए 'हाँ' कहने को बाध्य कर दिया। उनकी सोच रही कि बिना किसी लाग-लपेट के वास्तव में जो कुछ हुआ है, उसे दिखाया जाए। ट्रेलर देखने के बाद उन डरावने वर्षों से जुड़ी मेरी पिछली यादें ताजा हो गईं। मैं रियाज़ की भी प्रशंसा करना चाहूँगा, जिन्होंने पर्दे पर मेरे किरदार को निभाया है। मुझे उम्मीद है कि यह फिल्म बड़ी संख्या में लोगों तक पहुँचेगी, ताकि वे आपराधिक कार्यवाही में फंसाए जाने वाले एक आम आदमी का दर्द समझ सकें। यह फिल्म टिकटबारी और एबी फिल्म्स एंटरटेनमेंट द्वारा आदिमन फिल्म्स के सहयोग से बनाई गई है। इसके सह-निर्माता एनडी9 स्टूडियोज़ हैं। फिल्म सुदर्शन गमरे द्वारा लिखित और निर्देशित है। फिल्म में अब्दुल वाहिद शेख की भूमिका रियाज़ अनवर ने निभाई है। फिल्म में मुज्तबा अज़ीज़ नाज़ा ने बैकग्राउंड स्कोर दिया है, डायरेक्टर ऑफ फोटोग्राफी रोहन राजन मापुस्कर हैं और फिल्म का संपादन एचएम ने किया है। यह फिल्म 27 मई 2022 को आपके नज़दीकी सिनेमाघरों में रिलीज होने वाली है।
Image
ओमरॉन हेल्थकेयर ने वाराणसी में नया एक्सपीरियंस एवं सर्विस सेंटर लॉन्च किया इस लॉन्च के साथ ओमरॉन ने टियर टू शहरों में अपनी पहुंच बढ़ाई
Image
साक्षी तंवर हमारे देश की बेहतरीन अभिनेत्रियों में से एक हैं’’ अनिल कपूर, अनुष्‍का शर्मा ने नेटफ्लिक्‍स इंडिया के ‘माई’ पर की तारीफों की बौछार
Image
प्रेस विज्ञप्ति फैंटेसी स्पोर्ट्स प्लेटफॉर्म के लिए एक सक्षम रेगुलेशन के पक्षधर हैं गुजरात के खेल मंत्री