जेसीबी इंडिया ने भारत में उद्योग का पहला खुदाई लोडर पेश किया जो दोहरे ईंधन से चलता है




केंद्रीय सड़क परिवहन, राजमार्ग और माइक्रो, सूक्ष्म व मध्यम उपक्रमों के माननीय मंत्री नितिन गडकड़ी ने लोकार्पण किया




नवंबर 2020: अर्थमूविंग (मिट्टी खोदने) और निर्माण उपकरणों की भारत की अग्रणी निर्माता, जेसीबी इंडिया लिमिटेड ने आज भारत में उद्योग का पहला डुएल फुएल (दोहरे इंजन वाला) सीएनजी (संपीड़ित प्राकृतिक गैस) लोडर पेश किया। मुख्य रूप से मिट्टी खोदने वाली यह मशीन मिट्टी या सामान ट्रक पर लोड करने का भी काम करती है इसलिए इसे बेकहो लोडर कहा जाता है। नई पेश की गई डीजल और सीएनजी से चलने वाली इस मशीन का नाम JCB 3DX DFi है। यह मशीन एचसीसीआई (होमोजिनस चार्ज कम्प्रेशन इग्नीशन) टेक्नालॉजी का उपयोग करती है। केंद्रीय सड़क परिवहन, राजमार्ग और माइक्रो, सूक्ष्म व मध्यम उपक्रमों के माननीय मंत्री नितिन गडकड़ी ने दिल्ली में इस मशीन का लोकार्पण किया। वैकल्पिक ईंधन का उपयोग करने वाली निर्माण मशीनरी के विकास का मांग करने वालों में वे अग्रणी आवाज रहे हैं। निर्माण उपकरणों से संबंधित वाहनों को डीजल के साथ-साथ सीएनजी से चलाने के लिए वे अग्रणी प्रेरणा रहे हैं।


निर्माण उपकरणों के वाहन क्षेत्र में वैकल्पिक ईंधन का उपयोग एक महत्वपूर्ण कदम और बदलाव है। JCB 3DX DFi सीएनजी और डीजल के मिश्रण से चलता है इसलिए इसके उत्सर्जन में कणों की मात्रा में काफी कमी आती है। इससे सीओटू या कार्बन डायऑक्साइड के उत्सर्जन में भी आनुपातिक कमी आती है। सीएनजी किफायती है और इससे अंतिम ग्राहक को परिचालन लागत कम करने में सहायता मिलती है।


पर्यावरण के स्थायित्व या निरंतरता को लेकर वैश्विक स्तर पर जताई जा रही चिन्ता के मद्देनजर जेसीबी दोहरे ईंधन वाले इस सीएनजी बैकहो लोडर की पेशकश के जरिए इस उद्देश्य के समर्थन के लिए प्रतिबद्ध है। इस मशीन का विकास भारत में किया गया है और लोकार्पण से पहले इसका परीक्षण भिन्न परिचालन स्थितियों में किया जा चुका है। इसका निर्माण कंपनी की बल्लभगढ़ स्थित फैक्ट्री में किया जाएगा जो दिल्ली एनसीआर में है। इस मौके पर अपने विचार रखते हुए जेसीबी इंडिया के सीईओ और प्रबंध निदेशक दीपक शेट्टी ने कहा, “भारत में चार दशक के अपने परिचालन के दौरान हमलोगों ने नवीनता में निवेश जारी रखा है। यह हमारे प्रमुख परिचालनों में एक है। दोहरे ईंधन वाली यह मशीन डीजल की जगह सीएनजी से चल सकती है और इसका विकास हमारे ग्राहकों की बदलती आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए किया गया है। आगे यह देश में संरचना बनाने में योगदान करेगा और इसका निर्यात दुनिया भर के भिन्न देशों में किया जाएगा।” मेक इन इंडिया और आत्मनिर्भर भारत की कल्पना के मूर्त रूप, जेसीबी इंडिया की देश में पांच फैक्ट्री और एक डिजाइन सेंटर है। जेसीबी ग्रुप की छठी फैक्ट्री इस समय गुजरात के वडोदरा में निर्माणाधीन है। कंपनी ने भारत में बनी मशीनों का निर्यात 110 से ज्यादा देशों में किया है। इन्हें जेसीबी के वन ग्लोबल क्वाल्टी स्टैंडर्ड के अनुसार डिजाइन और बनाया गया है।


दोहरे ईंधन वाला यह सीएनजी बेकहो लोडर उसी 3DX (थ्रीडीएक्स) मॉडल पर आधारित है जो भारतीय बाजार में अच्छी तरह स्थापित है। इसमें ईंधन भराने का लचीलापन है। इससे ग्राहक के लिए दूरदराज के इलाकों में जहां सीएनजी नहीं मिलता है, वहां भी टिके रहना संभव होगा। दीपक शेट्टी ने आगे कहा, “जेसीबी अपने ग्राहकों, डीलर और आपूर्तिकर्ताओं से मिली जानकारी के आधार पर इस परियोजना पर काम करता रहा है। ये मशीनें ग्राहक के वास्तविक साइट पर जांची जा चुकी हैं और ये जगहें भिन्न भौगोलिक क्षेत्रों में रही हैं तथा प्राप्त फीडबैक को उत्पाद के विकास में शामिल कर लिया गया है।”


जेसीबी का डीलर नेटवर्क देश के सबसे विस्तृत में एक है। इसके 60+ डीलर्स और 700 आउटलेट के इंजीनियर प्रशिक्षित हैं और इनके प्रत्येक लोकेशन पर पुर्जों का पर्याप्त स्टॉक है। मशीन में जेसीबी की उन्नत टेलीमैटिक्स टेक्नालॉजी – जेसीबी लाइव लिंक भी होगी। इसके जरिए, मशीन को ट्रैक किया जा सकता है और वास्तविक समय में उसकी निगरानी की जा सकती है। इस टेक्नालॉजी से मशीन से संबंधित सर्विस (सेवा), परिचालन और सिक्यूरिटी के अपडेट ऑनलाइन या

मोबाइल एपलीकेशन के जरिए मिल सकते हैं। आज की तारीख तक करीब 1,60,000 लाइव लिंक एनैबल्ड जेसीबी मशीनें बेची जा चुकी हैं। इन्हें जियो फेन्स और टाइम फेंस किया जा सकता है और इसे जीपीएस से लोकेट किया जा सकता है। ग्राहकों को मशीन के बेड़े से संबंधित स्वास्थ्य से लेकर ईंधन की मात्रा, बैट्री की स्थिति और तकरीबन सारी महत्वपूर्ण

सूचनाएं उनके मोबाइल पर मिलती रह सकती है। यह सर्विस से संबंधित रिमाइंडर भी देता है यानी याद दिलाने का काम भी करता है। जेसीबी इंडिया ने जेसीबी जेन्युन पार्ट्स के जरिए अपने परिचालनों में डिजिटल टेक्नालॉजी को भी एकीकृत किया है। इससे ग्राहकों के लिए अपनी जेसीबी मशीन के पुर्जों का ऑनलाइन ऑर्डर करना संभव होता है। इसके अलावा, एक आंतरिक टूल, स्मार्ट सर्व का भी विकास किया गया है जो डीलरशिप को इंजीनियर की सहायता करने में सहायता के लिए है। इससे मशीन की उत्पादकता और कार्यकुशलता बेहतर होती है तथा दूरदराज के ग्राहकों तक पहुंचना भी संभव होता है। इससे मशीन को ज्यादा समय तक ठीक रखने में सहायता मिलती है।

Popular posts
फ्रैंकलिन टेम्पलटन मध्य प्रदेश में फ्रैंकलिन इंडिया बैलेंस्ड एडवांटेज फंड (FIBAF) कर रहे हैं लॉन्च • FIBAF का लक्ष्य फ्रैंकलिन टेम्पलटन के इन-हाउस प्रोप्रिटेरी डायनामिक अस्सेस्ट एल्लोकेशन मॉडल से प्राप्त, दोनों दुनिया के सर्वश्रेष्ठ को जोड़ना है • फ्रैंकलिन टेम्पलटन के लिए मध्य प्रदेश एक प्रमुख ग्रोथ मार्केट है, जिसका उद्योग एयूएम इंदौर, भोपाल, जबलपुर और ग्वालियर सहित अन्य जैसे शहरों में लगभग ५२,000 करोड़ रूपए का है
Image
मैंने इस शो से शिक्षा की अहमियत सीखी हैं‘‘ - आयुध भानुशालीं, भीमराव, एण्डटीवी के ‘एक महानायक डाॅ बी. आर. आम्बेडकर‘
Image
Clensta Covid 19 Protection Lotion – your long term shield against COVID 19 & the harmful effects of hand sanitisers
Image
भारत में पहली बार आयोजित की जा रही इंटरनेशनल एडवरटाइजिंग कॉन्फ्रेंस 2021
Image
मातृ दिवस‘ पर देखिये एण्डटीवी के आॅन-स्क्रीन माँ-बच्चों का खट्टा-मीठा रिश्ता
Image