एण्डटीवी की नई प्रस्तुति ‘अटल‘ अटल बिहारी वाजपेयी के बचपन की अनकही कहानियों का होगा विवरण्

 


भारत के इतिहास में ऐसे कई प्रधानमंत्री रहे हैं, जो रूपांतरकारी नेता बनकर उभरे और जिन्होंने महान दूरदृष्टि और संकल्प के साथ महत्वपूर्ण पलों के माध्यम से देश को आगे बढ़ाया। उनके कार्यकाल में ऐसे कई महत्वपूर्ण फैसले लिये गये, जिसने देश की नियति तय की और इसे वैश्विक मंच पर एक नई पहचान दिलाई। इन नेताओं ने रणनैतिक दृष्टिकोण और निर्णायक कार्यों से इतिहास के पन्नों में अपना नाम अंकित किया और ऐसी अतुलनीय विरासत छोड़कर गये, जिसने अपार कामयाबी और प्रगति के एक युग को परिभाषित किया। स्वर्गीय अटल बिहार वाजपेयी ऐसे ही एक महत्वपूर्ण नेता थे। 


अटल बिहारी वाजपेयी एक प्रभावशाली नेता थे और भारतीयों के दिलों में उनके लिये अत्यधिक सम्मान है। एण्डटीवी अपने शो ‘अटल‘ के माध्यम से उनके बचपन के अनकहे पहलुओं को प्रस्तुत करने के लिये तैयार है। यूफोरिया प्रोडक्शन्स द्वारा निर्मित इस शो में एक ऐसे नेता के जीवन के आरंभिक वर्षों की कहानी दिखाई जायेगी, जिसने भारत की नियति को आकार देने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। भारत में ब्रिटिश शासन की पृष्ठभूमि पर आधारित इस शो में अटल बिहारी वाजपेयी के बचपन की कहानियाँ दिखाई जायेंगी और उन घटनाओं, मान्यताओं एवं चुनौतियों पर प्रकाश डाला जायेगा, जिन्होंने उन्हें वह नेता बनाया, जो वे थे।


इस शो की कहानी में उनकी माँ के साथ उनके संबंध पर प्रकाश डाला जायेगा, जिन्होंने उनकी आस्थाओं, मूल्यों और चिन्तन पर गहरा प्रभाव डाला। एक ओर, भारत ब्रिटिश राज में गुलामी की वेदना सह रहा था और दूसरी ओर, संपत्ति, जाति और भेदभाव के विभाजन और आंतरिक कलह को भी झेल रहा था। अपनी माँ द्वारा परिकल्पित अखंड भारत का सपना एक ऐसा सपना था जिसे अटल ने बड़े जतन से अपने में सँजो लिया था। नेर कथानक अटल बिहारी बाजपेयी की प्रेरणादायी कहानी के पन्ने खोलती है, जो एक बालक के रूप में साधारण शुरुआत करके भारत के सबसे प्रतिष्ठित नेताओं में एक बने।


‘अटल‘ जल्द आ रहा है केवल एण्डटीवी पर!

Popular posts
"मैं अपने किरदार से गहराई से जुड़ा हूं क्योंकि उसी की ही तरह मैं भी कम शब्दों में बहुत कुछ कह देता हूं" ज़ी थिएटर के टेलीप्ले 'तदबीर' में वे एक पूर्व सेना अधिकारी की भूमिका निभा रहे हैं
Image
मिलिए एंडटीवी के 'हप्पू की उलटन पलटन' की नई दबंग दुल्हनिया 'राजेश' उर्फ ​​गीतांजलि मिश्रा से!
Image
हर जुबां पर बुंदेली ज़ायके का स्वाद चढ़ाने आ रहा बुंदेली शेफ सीजन-2 18 से 45 वर्ष तक की बुंदेली महिलाएं ले सकती हैं हिस्सा प्रतियोगिता में देश के किसी भी कोने से ले सकते हैं भाग बुंदेली शेफ विजेता को मिलेंगे 50 हजार रुपये तक के आकर्षक उपहार
Image
Unlocking the Power of Homeopathy: Naturally Treat PCOS-Induced Hair Loss Without Side Effects
Image