एण्डटीवी के ‘येशु‘ में हेरोड एंटिपस का किरदार निभाना मेरे लिये सपने के सच होने जैसा है’’ - यह कहना है रुद्र सोनी का



रूद्र सोनी बहुत छोटी उम्र से टेलीविजन शोज और विज्ञापनों में काम कर रहे हैं और बचपन से लेकर अपने टीनेज तक उन्होंने अपने लिये प्रशंसकों का एक स्थायी आधार बनाया है। छोटी सी उम्र में चुनौतीपूर्ण भूमिकाएं लेने के लिये मशहूर रुद्र एण्डटीवी की सबसे नई पेशकश ‘येशु’ में हेरोड एंटिपस की भूमिका निभाने के लिये तैयार हैं। एक बेबाक बातचीत में रुद्र ने नकारात्मक किरदारों के साथ प्रयोग करने में उन्हें मिलने वाले आनंद, अपनी प्रेरणाओं, आदि के बरे में बताया। 


1.येशु से पहले आप एक शाॅर्ट ब्रेक पर थे। आपको क्यों लगा कि यह शो आपकी वापसी के लिये अच्छा रहेगा

मुझे पढ़ाई पर ध्यान देने के लिये एक्टिंग से एक शाॅर्ट ब्रेक लेना पड़ा। हालांकि मैं इसे वापसी नहीं कहूंगा, क्योंकि अंतराल बहुत लंबा नहीं था, मैं ऐसे शो का हिस्सा बनने की सोच रहा था, जो मुझे कुछ अलग और चुनौतीपूर्ण करने का मौका दे। येशु के लिये जब मैंने अपने किरदार किंग एंटिपस का नैरेशन सुना, तो मैं बहुत रोमांचित हुआ। यह रोल निस्संदेह काफी मजबूत और प्रभावी है और मुझे यकीन है कि दर्शक भी मुझसे सहमत होंगे, जब वे मुझे स्क्रीन पर देखेंगे।!


2.आप कौन सा रोल निभा रहे हैं?

मैं बताना चाहूंगा कि मेरे किरदार में पहलूओं की परतें हैं। बहुत कम लोग जानते होंगे कि हेरोड एंटिपस अपने पिता किंग हेरोड से बहुत ज्यादा द्वेषपूर्ण और उग्र था। यह किरदार जितना चुनौतीपूर्ण है, उतना ही रोचक है। मैंने उसके बारे में पढ़ना शुरू कर दिया है, ताकि उसकी बारीकियाँ समझ सकूं। 


3. आप इस किरदार से कितने संतुष्ट हैं ?

निगेटिव किरदार करना मेरे लिये सपने के सच होने जैसा है। मैं विगत समय में चाॅकलेट बाॅय और सकारात्मक भूमिकाएं कर चुका हूँ, लेकिन अब कुछ ताजगी भरा और अलग, लेकिन प्रभावशाली करना चाहता था। और यह रोल मुझे सही समय पर मिला। हेरोड एंटिपस बिलकुल वही किरदार है, जो मैं अदा करना चाहता हूँ। वह डरावना, खलनायकी से भरा और हर तरह की राजनीति करने वाला है। निगेटिव रोल करना आसान नहीं है। लेकिन इससे किरदार के विभिन्न पहलू दिखाने का मौका मिलता है, जिससे किरदार यादगार बनता है। मैं जानता हूँ कि हीरो का किरदार निभाना उतना ही ट्रिकी है, लेकिन विलेन के किरदार के लिये ज्यादा दृढ़ता चाहिये। लोगों को यह यकीन दिलाना ज्यादा कठिन है कि आप गलत हैं, उन्हें यह यकीन दिलाने की तुलना में कि आप सही हैं। मैं इस किरदार से खुद को चुनौती देना चाहता था और इस बेहतरीन अवसर के लिये आभारी हूँ।



4.आपको यह रोल कैसे मिला? इसके लिये आप आॅडिशन के कितने राउंड्स से गुजरे?

टेलीविजन पर उल्लेखनीय किरदारों को निभाने के बाद, येशु के मेकर्स किंग एंटिपस की भूमिका के लिये मेरे पास आए। आॅडिशन के पहले राउंड के बाद, मुझे एक काॅल आया कि मुझे इसके लिये चुन लिया गया है। मैं तो जैसे चांद पर पहुँच गया! मेरी खुशी का कोई ठिकाना न रहा। हम हाल ही में शूटिंग शुरू कर चुके हैं और मैं शूटिंग के हर हिस्से का मजा ले रहा हूँ और दिलचस्प कहानियाँ खोज रहा हूँ, जिससे व्यक्तिगत और पेशेवर तौर पर बहुत कुछ सीखने को मिल रहा है।


5.इस किरदार में ढलने के लिये क्या आप कोई खास तैयारी कर रहे हैं?

हेरोड एंटिपस भारतीय टेलीविजन और मूवीज में आमतौर पर दिखाई देने वाले खलनायकों से अलग है। उसके कई पहलू हैं, जो उसे दिलचस्प बनाते हैं। इस किरदार की तैयारी के लिये, मैं उसकी यात्रा, लुक, फील, तौर-तरीकों और संपूर्ण व्यक्तित्व को समझने के लिये बहुत समय दे रहा हूँ, जिन्हें डायरेक्टर स्क्रीन पर प्रोजेक्ट करना चाहते हैं। हर खलनायक का अपना व्यक्तित्व होता है और उसे जितना बेहतर समझा जाता है, उसे निभाना उतना ही आसान होता है।


6.इसकी कहानी असल में क्या है? इस शो और दर्शकों से आपकी क्या अपेक्षाएं हैं?

‘येशु’ विशेष रूप से परोपकारी एक बच्चे की कहानी है, जो सिर्फ अच्छाई करना चाहता है और अपने आसपास खुशियां फैलाता है। सभी के लिए उसका प्यार और करुणा उन बुरी, शैतानी शक्तियों के लिये बिल्कुल विपरीत हैं, जो उनके जन्म और बचपन के दौरान मौजूद थीं। अपनेे परिवार और समाज पर होने वाले अत्याचारों ने उन्हें काफी प्रभावित किया। दूसरों की मदद करने और उनके दर्द को कम करने की कोशिश अक्सर उन्हें उस राह पर ले जाती थी, जहां वह निश्चित रूप से आहत होते थे और न सिर्फ उत्पीड़कों बल्कि एक बड़ी संख्या में लोगों द्वारा भी उनकी निंदा की जाती थी। लेकिन आखिरकार ये चीजें भी उन्हें उनके रास्ते पर चलने से नहीं रोक पाईं। यह कहानी अच्छाई बनाम बुराई के बीच की सिर्फ एक आदर्श कहानी ही नहीं है, बल्कि यह येशु और उनकी समर्थक एवं मार्गदर्शक बनीं उनकी मां के बीच के खूबसूरत रिश्ते को भी दर्शाता है। येशु हिन्दी के सामान्य मनोरंजन चैनल के क्षेत्र में पहली बार दिखाई जा रही एक अनकही और अनसुनी कहानी है। मैं इस शो के बेहतरीन कलाकारों के साथ काम करने का इंतजार कर रहा हूँ, जिनमें सोनाली मैडम, दर्पण सर और कई अन्य महान कलाकार शामिल हैं। मुझे यकीन है कि यह शो दर्शकों के दिल को छूएगा और वे इसे स्वीकार करने के साथ-साथ इसकी तारीफ भी करेंगे। हम सभी बहुत उत्साहित हैं और अपने दर्शकों की प्रतिक्रिया का इंतजार कर रहे हैं।


Popular posts
फ्रैंकलिन टेम्पलटन मध्य प्रदेश में फ्रैंकलिन इंडिया बैलेंस्ड एडवांटेज फंड (FIBAF) कर रहे हैं लॉन्च • FIBAF का लक्ष्य फ्रैंकलिन टेम्पलटन के इन-हाउस प्रोप्रिटेरी डायनामिक अस्सेस्ट एल्लोकेशन मॉडल से प्राप्त, दोनों दुनिया के सर्वश्रेष्ठ को जोड़ना है • फ्रैंकलिन टेम्पलटन के लिए मध्य प्रदेश एक प्रमुख ग्रोथ मार्केट है, जिसका उद्योग एयूएम इंदौर, भोपाल, जबलपुर और ग्वालियर सहित अन्य जैसे शहरों में लगभग ५२,000 करोड़ रूपए का है
Image
मैंने इस शो से शिक्षा की अहमियत सीखी हैं‘‘ - आयुध भानुशालीं, भीमराव, एण्डटीवी के ‘एक महानायक डाॅ बी. आर. आम्बेडकर‘
Image
Clensta Covid 19 Protection Lotion – your long term shield against COVID 19 & the harmful effects of hand sanitisers
Image
भारत में पहली बार आयोजित की जा रही इंटरनेशनल एडवरटाइजिंग कॉन्फ्रेंस 2021
Image
मातृ दिवस‘ पर देखिये एण्डटीवी के आॅन-स्क्रीन माँ-बच्चों का खट्टा-मीठा रिश्ता
Image