नैसकॉम फाउंडेशन ने गूगल डॉट ऑर्ग की 5,00,000 डॉलर की सहायता से उद्यमिता कौशलों के जरिए महिला किसानों के सशक्तिकरण की एक नई पहल की शुरुआत की इस पायलट परियोजना का लक्ष्य 1,00,000 महिला किसानों तक पहुंचने और उनकी आय की संभावना बेहतर करना है

 नैसकॉम फाउंडेशन ने गूगल डॉट ऑर्ग की 5,00,000



मार्च 2021: नैसकॉम फाउंडेशन अपने प्रोग्राम “वीमेन एमपावरमेंट और आंत्रप्रेन्योरशिप” (महिला सशक्तिकरण और उद्यमिता) की शुरुआत कर रहा है। इस कार्यक्रम की घोषणा आज गूगल के गूगल फॉर इंडिया – वीमेन विल आयोजन (Women Will’event)के मौके पर गूगल डॉट ऑर्ग की प्रेसिडेंट जैकलीन फुलर ने की। इसके लिए नैसकॉम फाउंडेशन को गूगल के लोकोपकार संगठन, गूगल डॉट ऑर्ग से $500,000 की सहायता मिली है। 


कृषि जनगणना और आर्थिक सर्वेक्षणों से इस बात की पुष्टि होती है कि गुजरे दशक में पुरुषों द्वारा गांवों से शहरों की ओर पलायन करने के मामले बढ़ने से कृषि क्षेत्र का महिलाकरण हो गया है। महिलाएं अब भिन्न भूमिकाओं में होती हैं और खेती करके फसल पैदा करने के साथ-साथ खेतों में श्रमिक के रूप में काम करने वाली महिलाओं की संख्या बढ़ रही है। गूगल डॉट ऑर्ग की सहायता से नैसकॉम फाउंडेशन उम्मीद करता है कि महिला कामगारों को कृषि के कामों का प्रशिक्षण देने के साथ-साथ उन्हें डिजिटल साक्षरता, वित्तीय साक्षरता और उद्यमिता कौशल से युक्त किया जाएगा ताकि आय की उनकी संभावना को बेहतर करने और इस क्षेत्र में पुरुषों व महिलाओं की मजदूरी का अंतर कम करने में सहायता मिले।


नैसकॉम फाउंडेशन के सीईओ श्री अशोक पमिदी ने कहा, “डिजिटल टेक्नलॉजिज कृषि मूल्य श्रृंखला में क्रांति ला रही हैं। इनपुट्स, फाइनेंस, मार्केट और मौसम संबंधी सूचनाओं तक अब बेहतर पहुंच संभव है। पर प्रौद्योगिकीय विकास अलग-थलग नहीं रह सकता है। आर्थिक तौर पर सक्रिय महिलाओं में 80%कृषि क्षेत्र में काम करती हैं। इनमें 33 प्रतिशत कृषि मजदूर और 48 प्रतिशत स्वरोजगार करने वाली किसान हैं। इनमें से ज्यादातर अभी भी डिजिटल क्रांति का फायदा उठाने में अक्षम हैं। गूगल डॉट ऑर्ग की सहायता से हम इस अंतर को पाटने की उम्मीद करते हैं और इन महिला किसानों का डिजिटल सशक्तिकरण करना चाहते हैं। पायलट परियोजना के रूप में हम एक लाख महिला किसानों तक पहुंचेंगे जो उत्तराखंड से लेकर हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा और बिहार में हैं। आने वाले वर्ष में इन्हें डिजिटल साक्षरता, वित्तीय साक्षरता और उद्यमिता के कौशल से युक्त किया जाएगा।”  


यह प्रोग्राम अपने पायलट चरण में भिन्न क्षेत्रों के एक लाख से ज्यादा महिला किसानों तक पहुंचेगा। इनमें उत्तराखंड के चमोली और रुद्रप्रयाग से लेकर हिमाचल प्रदेश में सोलन और मंडी, उत्तर प्रदेश में आगरा, बुलंदशहर और वाराणसी, राजस्थान में चित्तौड़गढ़ और जैसलमेर, बिहार में मुजफ्फरपुर और हरियाणा में मेवात शामिल है।  


कार्यक्रम की शुरुआत मास्टर ट्रेनर्स के प्रशिक्षण से होगी। ये मास्टर प्रशिक्षक फिर अपने समाज के अंदर की ज्यादा महिलाओं को प्रशिक्षण देंगे। कार्यक्रम के तहत दो कॉल सेंटर भी बनाए जाएंगे जहां महिलाएं फोन करके महिलाएं उद्यमिता से संबंधित अपने सवालों के जवाब और उसपर कौनसेलिंग हासिल कर सकेंगी। 


गूगल डॉट ऑर्ग की प्रेसिडेंट जैकलीन फुलर ने कहा, “गूगल में हमलोगों ने देखा है कि कैसे डिजिटल टूल्स से कई व्यक्ति शिक्षा तक पहुंच हासिल कर सकते हैं, अपने कारोबार का विस्तार कर सकते हैं और नए कौशलों का विकास कर सकते हैं। अनुसंधान से यह भी पता चला है कि महिला किसानों की पहुंच सही कौशल और संसाधनों तक हो तो वे अपनी आय 30 प्रतिशत या ज्यादा बढ़ा सकती हैं। हम समझते हैं कि हमारी एक सामूहिक जिम्मेदारी है और हमें एक भूमिका निभानी है जिससे यह सुनिश्चित किया जाए कि भारत में महिलाओं और लड़कियों की पीढ़ियों के पास फलने-फूलने और सफल होने का मौका है। हम गूगल डॉट ऑर्ग के जरिए नैसकॉम फाउंडेशन द्वारा किए जा रहे कामों का सपोर्ट करके बेहद गर्व महसूस कर रहे हैं। 

देश के ग्रामीण हिस्सों में महिला किसानों के लिए जो काम किए जा रहे हैं उनका प्रभाव आने वाले महीनों में भारत में देखने का हम इंतजार कर रहे हैं।”


एक बार प्रशिक्षण मिल जाए तो महिला किसान आसानी से स्मार्ट फोन चला लेंगी और अपने फायदे के लिए सोशल मीडिया का उपयोग कर सकेंगी, प्रासंगिक योजनाओं के लिए भरोसेमंद सरकारी ऐप्प्स और वेबसाइट तलाश सकेंगी। वे अपने निजी फाइनेंस को बचाने के साथ सुरक्षित रख सकेंगी उन्हें बढ़ा सेंगी और डिजिटल लेन-देन कर सकेंगी। इसके अलावा कच्चा माल खरीदने या तैयार माल बेचने के लिए वे बाजार से सीधे संपर्क बना सकेंगी और इस तरह अपने परिचालन और संभारतंत्र को व्यवस्थित कर सकेंगी। 


___________________________________________________________________________________


नैसकॉम फाउंडेशन के बारे में: 

नैसकॉम की सामाजिक शाखा के रूप में फाउंडेशन सामाजिक बदलाव के अपने लक्ष्य हासिल करने और टेक्नालॉजी के जरिए प्रभाव डालने के लिए प्रौद्योगिकी उद्योग के साथ काम करता है। अपने अस्तित्व के एक दशक से ज्यादा समय में फाउंडेशन ने अपने प्रयासों से एक मिलियन से ज्यादा जीवन को छुआ है और यह डिजिटल साक्षरता, आजीविका के कौशल, विकलांगों की सहायता, नवीनता को बढ़ावा देने, मुनाफा न कमाने वालों का टेक्नालॉजी से सशक्तिकरण करके स्वेच्छा से काम करके हासिल हुआ है। अतिरिक्त जानकारी के लिएwww.nasscomfoundation.orgपर आइए।


गूगल डॉट ऑर्ग के बारे में 

गूगल डॉट ऑर्ग (Google.org) मुनाफा नहीं कमाने वाले नवाचारकर्ताओं को गूगल रिसोर्स से जोड़ता है ताकि जटिल मानवीय चुनौतियों को हल किया जा सके और यह सुनिश्चित किया जा सके कि हर कोई डिजिटल अर्थव्यवस्था में भागीदारी कर सके।  

जो टेक्नालॉजी हर दिन हमारे जीवन को आसान बनाती है वही दुनिया की सबसे मुश्किल समस्याओं को दूर करने में सहायता कर सकती है। इसीलिए हम उन संस्थाओं की सहायता कर रहे हैं जो हमारी कुछ जबरदस्त मुश्किलों का मुकाबला करने के लिए उन्नत टेक्नालॉजी का उपयोग कर रही हैं। उदाहरण के लिए आपदा की भविष्यवाणी के लिए कृत्रिम बुद्धिमत्ता का उपयोग। हर किसी को डिजिटल अर्थव्यवस्था में भाग लेने में सक्षम होना चाहिए। इसलिए हमलोग ग्रांट दे रहे हैं ताकि रोजगार चाहने वालों के लिए डिजिटल कौशल प्रशिक्षण में सहायता कर सकें, ऑनलाइन सुरक्षा और मीडिया साक्षरता में सहायता कर सकें तथा छात्रों को कंप्यूटर साइंस की शिक्षा के लिए धन दे सकें। खासकर उन समुदायों के लिए जिनका प्रतिनिधित्व कम है। हम जानते हैं सबसे अच्छा जवाब अक्सर वही देता है जो समस्या को सबसे करीब से देखता है। इसीलिए हम मुनाफा नहीं कमाने वाले इनोवेटर्स की सहायता करते हैं। गूगल वालंटीयर, टेक्नालॉजी और $200 मिलियन का ग्रांट हर साल एनैबल करते हैं ताकि इसके प्रभाव का विस्तार किया जा सके। अतिरिक्त जानकारी के लिए https://www.google.org/पर आइए।v