‘‘एक महिला को एक महिला से बेहतर कोई और नहीं समझ सकता’’, यह कहना है एण्डटीवी के ‘संतोषी मां सुनाएं व्रत कथाएं’ की तन्वी डोगरा का



‘अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस‘ के मौके पर एण्डटीवी के ‘संतोषी मां सुनाएं व्रत कथाएं‘ की स्वाति यानी तन्वी डोगरा ने बताया कि एक महिला होना क्या होता है। उन महिलाओं के बारे में बात की, जिन्हें वह मानती हैं और एक सशक्त महिला किरदार निभाने के बारे में भी बताया। उनसे हुई बातचीत के अंश यहां दिये गये हैंः 


1.अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के विषय ‘वीमन इन लीडरशिप: अचीविंग एन इक्वल फ्यूचर इन ए कोविड-19 वल्र्ड‘ (‘नेतृत्व में महिलाएंः कोविड-19 की दुनिया में समान भविष्य हासिल करना‘), आपके लिये क्या मायने रखता है?

कोविड-19 से एक चीज हम सबने सीखी है कि इससे फर्क नहीं पड़ता क्या परिणाम होने वाला है। सभी लोग इससे किसी ना किसी रूप में प्रभावित हुए हैं। पुरुषों की तुलना में महिलाओं पर कोविड-19 का सामाजिक और आर्थिक प्रभाव ज्यादा पड़ा है। महिलाओं के कंधों पर बिना वेतन के देखभाल करने का अतिरिक्त बोझ आ गया। अन्य चीजों के अलावा, इसका प्रभाव महिलाओं के रोजगार पर भी पड़ा। उन बढ़ी हुई जिम्मेदारियों की वजह से महिलाएं शारीरिक, मानसिक, आर्थिक और भावनात्मक रूप से बोझ तले दब गयी थीं। चूंकि, हम रिकवरी मोड की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं, ऐसे में महिलाओं के लिये जेंडर के अनुकूल भूमिकाएं पहले से ज्यादा अहम हैं। वह भी पहले से ज्यादा सपोर्ट और अवसरों के साथ।  


2.आपके लिये सबसे प्रेरणादायी महिला कौन हैं (किसी बड़े पद पर और मनोरंजन की दुनिया में) और क्यों?

मैंने ग्रेसी सिंह को हमेशा ही अपने आदर्श के तौर पर देखा है, जोकि एण्डटीवी के ‘संतोषी मां सुनाएं व्रत कथाएं’ में मेरी को-स्टार भी हैं। उनकी एक्टिंग का हुनर और जिस तरह का उनका व्यक्तित्व है, वह वाकई सीखने लायक है। अपने काम के प्रति उनकी लगन मुझे अच्छी लगती है। पिछले एक साल में मैंने उनसे काफी कुछ सीखा है। उनके आस-पास बहुत ही सकारात्मक ऊर्जा रहती है। मैं खुद को खुशकिस्मत मानती हूं कि उनके साथ काम करने का मौका मिला। 


3.पिछले साल से ही, हम देश में महामारी की स्थिति से लड़ रहे हैं। ऐसी स्थिति में आपने अपने काम को किस तरह संभाला, जब पूरी दुनिया पर छंटनी और आर्थिक मंदी के बादल मंडरा रहे थे?

महामारी का समय हम सबके लिये चुनौतीपूर्ण रहा है। मेरे पिता चंडीगढ़ से हैं, जोकि पूरे दिल से पंजाबी हैं और उन्हें खाना बहुत पसंद है। उन्हें हमेशा से ही कुकिंग का शौक रहा है। पहले शूटिंग की व्यस्तता की वजह से मैं किचन में उनका हाथ नहीं बंटा पाती थी। लेकिन लाॅकडाउन के समय मुझे उनकी मदद करने और उनके साथ वक्त बिताने का मौका मिला। इसके अलावा इस दौरान मैंने कुछ नई चीजें सीखने में अपना समय लगाया। 



4.आपको क्या लगता है, आज के दौर की महिलाओं के सामने सबसे मुश्किल चुनौती कौन-सी है, खासकर कामकाजी महिलाओं को घर और बाहर के बीच संतुलन बनाने में?

मुझे ऐसा लगता है कि महिलाएं भावनाओं के आगे कमजोर पड़ जाती हैं और अक्सर खुद से ज्यादा दूसरों का ध्यान रखती हैं। एक महिला को रुककर विचार करना चाहिये और अपने पर्सनल तथा प्रोफेशनल लाइफ से जुड़ी चीजों को साफ नजरिये से देखना चाहिये। काम और घर के बीच संतुलन बनाना बहुत जरूरी है। एक महिला के तौर पर हम अक्सर दूसरों के सामने अपनी क्षमता साबित करने के लिये काम और अपनी जिंदगी के बीच की रेखा को देख नहीं पाते। वक्त के साथ-साथ हम एक प्रगतिशील दुनिया की तरफ कदम बढ़ा रहे हैं, जोकि आज के दौर की महिलाओं की जरूरतों को समझती है। इसलिये, मुझे ऐसा लगता है कि मुखर होना एक बेहद जरूरी क्वालिटी है। 


 5.आपका किरदार दर्शकों के दिलोदिमाग पर छाया हुआ है। आपके हिसाब से इस भूमिका/किरदार की खासियत क्या है?

स्वाति, संतोषी मां (ग्रेसी सिंह) की परम भक्त हैं। वह अपने पति इंद्रेश (आशीष कादियान) को प्यार करने वाली पत्नी हैं। खुद से ज्यादा वह सबके लिये अच्छा करती है और सोचती है। वह नेक, ईमानदार, शांत और दयालु है। संतोषी मां से मिलने वाले लगातार मार्गदर्शन और सपोर्ट के साथ-साथ अपनी असीम भक्ति से स्वाति ने अपने जीवन में आने वाली कई बाधाओं को पार किया है। स्वाति की दृढ़ता, धैर्य और लगन उसे जीवन के मुश्किल समय से बाहर निकलने में मदद करती है। ये चीजें दर्शकों के सामने एक उदाहरण पेश करती हैं कि अपने रोजमर्रा के जीवन में अलग-अलग स्थितियों से निपटने के लिये इन सारी खूबियों को अपने अंदर लायें। 


 6. आपके हिसाब से महिला होना क्या है?

मुझे ऐसा लगता है कि जब कुछ समझ नहीं आ रहा होता है तो उस स्थिति में महिलाएं स्पष्टता लेकर आती हैं। वह अपने आस-पास के लोगों का पूरा ध्यान रखती हैं और उन्हें बिना किसी शर्त प्यार करती हैं। महिला होने का अहसास बेहद अनूठा है। वह सटीकता, लचीलेपन और धैर्य को परिभाषित करती हैं। मुश्किल घड़ी का सामना वह हिम्मत और इच्छाशक्ति से कर सकती हैं। 


7. आप सभी लड़कियों और महिलाओं से क्या कहना चाहेंगी?

सबसे पहले तो मैं सभी महिलाओं को ‘महिला दिवस’ की शुभकामनाएं देना चाहूंगी! खुद को प्यार करें। किसी और चीज से पहले खुद की आंतरिक खुशी का ध्यान रखें। अपने सहज ज्ञान को आगे बढ़ने दें और यह विश्वास करें कि कोई भी चीज असंभव नहीं है। विश्वास और हिम्मत बनाये रखें। मैं सभी लड़कियों को कहना चाहूंगी कि खुद के प्रति ईमानदार रहें और जब भी किसी को जरूरत हो उनकी मदद जरूर करें। एक महिला को एक महिला से बेहतर कोई और नहीं समझ सकता।

Popular posts
हम फिल्म को यथासंभव वास्तविक रखना चाहते थे": नवोदित निर्देशक सुदर्शन गामारे*
Image
*हीमोलिम्फ' का ट्रेलर लांच* - फिल्म 27 मई 2022 को रिलीज हो रही है। - अब्दुल वाहिद शेख के वास्तविक जीवन की घटनाओं पर आधारित ट्रेलर लिंक: "आखिर में जीत सच्चाई की ही होती है, लेकिन इसे सामने लाने के लिए कष्ट उठाना पड़ता है," जॉर्ज वाशिंगटन के इस कथन से प्रेरणा लेते हुए निर्देशक सुदर्शन गमरे ने फिल्म 'हेमोलिम्फ- द इनविजिबल ब्लड' से डेब्यू किया है। आज रियल वाहिद शेख की मौजूदगी में, निर्माताओं ने फिल्म का ट्रेलर लांच किया। इस मौके पर, निर्देशक सुदर्शन और अभिनेता रियाज़ अनवर उपस्थित थे। रियाज़ अनवर फिल्म में वाहिद शेख की भूमिका निभा रहे हैं। हीमोलिम्फ, एक शिक्षक अब्दुल वाहिद शेख के जीवन की वास्तविक कहानी है, जिस पर 11 जुलाई 2006 को मुंबई ट्रेन बम विस्फोट के बाद गंभीर धाराओं में आरोप लगाए गए थे। इन आरोपों ने वाहिद के साथ ही उसके परिवार को भी झंझोड़ दिया था। फ़िल्म निर्माताओं ने न्याय के लिए वाहिद के संघर्ष को रुपहले पर्दे के माध्यम से लोगों के बीच रखने की कोशिश की है। ट्रेलर में, गलत तरीके से फँसाए गए एक मासूम स्कूल अध्यापक की पीड़ा और उसकी हार ना मानने के संकल्प को दिखाया गया है। 2.09 मिनट के ट्रेलर में वाहिद और उसके परिजनों की न्याय पाने के लिए उठाने पड़ रहे दुश्वारियों को पर्दे पर दिखाया गया है। फ़िल्म के बारे में बात करते हुए, निर्देशक सुदर्शन गामारे ने कहा, "यह मेरी पहली फिल्म है, और कहानी मेरे दिल के बहुत करीब है। मैं पिछले कुछ सालों से इस कहानी को महसूस कर रहा था और चाहता था कि हर कोई झूठे आरोपों में फंसाए गए एक आम आदमी की कहानी को सुने-देखे और महसूस करने की कोशिश करे। मैं टीजर और पोस्टर से मिली प्रतिक्रिया से बहुत उत्साहित हूँ और उम्मीद करता हूँ कि ट्रेलर को भी ऐसी ही प्रतिक्रिया मिलेगी।" फिल्म के बारे में पूछे जाने पर, रियल अब्दुल वाहिद शेख ने बताया, "मेरी आपबीती पर फिल्म बनाने के लिए कई लोगों ने मुझसे संपर्क किया, लेकिन सुदर्शन के दृढ़ विश्वास ने मुझे फिल्म के लिए 'हाँ' कहने को बाध्य कर दिया। उनकी सोच रही कि बिना किसी लाग-लपेट के वास्तव में जो कुछ हुआ है, उसे दिखाया जाए। ट्रेलर देखने के बाद उन डरावने वर्षों से जुड़ी मेरी पिछली यादें ताजा हो गईं। मैं रियाज़ की भी प्रशंसा करना चाहूँगा, जिन्होंने पर्दे पर मेरे किरदार को निभाया है। मुझे उम्मीद है कि यह फिल्म बड़ी संख्या में लोगों तक पहुँचेगी, ताकि वे आपराधिक कार्यवाही में फंसाए जाने वाले एक आम आदमी का दर्द समझ सकें। यह फिल्म टिकटबारी और एबी फिल्म्स एंटरटेनमेंट द्वारा आदिमन फिल्म्स के सहयोग से बनाई गई है। इसके सह-निर्माता एनडी9 स्टूडियोज़ हैं। फिल्म सुदर्शन गमरे द्वारा लिखित और निर्देशित है। फिल्म में अब्दुल वाहिद शेख की भूमिका रियाज़ अनवर ने निभाई है। फिल्म में मुज्तबा अज़ीज़ नाज़ा ने बैकग्राउंड स्कोर दिया है, डायरेक्टर ऑफ फोटोग्राफी रोहन राजन मापुस्कर हैं और फिल्म का संपादन एचएम ने किया है। यह फिल्म 27 मई 2022 को आपके नज़दीकी सिनेमाघरों में रिलीज होने वाली है।
Image
ओमरॉन हेल्थकेयर ने वाराणसी में नया एक्सपीरियंस एवं सर्विस सेंटर लॉन्च किया इस लॉन्च के साथ ओमरॉन ने टियर टू शहरों में अपनी पहुंच बढ़ाई
Image
साक्षी तंवर हमारे देश की बेहतरीन अभिनेत्रियों में से एक हैं’’ अनिल कपूर, अनुष्‍का शर्मा ने नेटफ्लिक्‍स इंडिया के ‘माई’ पर की तारीफों की बौछार
Image
प्रेस विज्ञप्ति फैंटेसी स्पोर्ट्स प्लेटफॉर्म के लिए एक सक्षम रेगुलेशन के पक्षधर हैं गुजरात के खेल मंत्री