बाबा रामदेव बोले- मानता हूं कि एलोपैथी ने करोड़ों जानें बचाईं, लेकिन आयुर्वेद का सम्मान हो



न्यूज़18 इंडिया से खास बातचीत में बाबा रामदेव ने कहा मैंने उस समय भी अपना बयान वापस लिया और खेद व्यक्त किया. एलोपैथी पर दिए अपने बयान को लेकर डॉक्टरों के निशाने पर आए बाबा रामदेव ने रविवार को कहा कि मैं अपने बयान पर माफी मांग चुका हूं और मैंने एलोपैथी पर दिया बयान वापस भी ले लिया है. इसके साथ ही उन्होंने भारतीय चिकित्सा संघ (IMA) पर पलटवार किया और दावा किया कि 98 प्रतिशत बीमारियों का इलाज आयुर्वेद से संभव है.

 उन्होंने न्यूज18 इंडिया से एक्सक्लूसिव बातचीत में अमिष देवगन से योग और आयुर्वेद की अहमियत पर कहा कि 98 प्रतिशत बीमारियों का इलाज आयुर्वेद से मुमकिन है. रामदेव ने यह भी माना कि एलोपैथी की वजह से करोड़ों लोगों की जिंदगी बचाई गई है, लेकिन आयुर्वेद का भी सम्मान होना चाहिए.

 

रामदेव ने आईएमए को बताया अंग्रेजों का बनाया हुआ एनजीओ

 रामदेव ने कहा कि आयुर्वेद में कई बीमारियों का पक्का इलाज है. उन्होंने एलोपैथ पर निशाना साधते हुए कहा, एलोपैथ में महंगी दवाओं का चक्रव्यूह है, लोगों को लूटा जा रहा है और फार्मा इंडस्ट्री लूट मचाती हैं. इतना ही नहीं उन्होंने देश की शीर्ष चिकित्सा संस्था को अंग्रेजों का बनाया हुआ एक एनजीओ बताया. रामदेव ने कहा, आईएमए अंग्रेजों का बनाया हुआ एक एनजीओ है. आईएमए के अध्यक्ष और महामंत्री बर्खास्त हों. आईएमए कोई कानूनी संस्था नहीं है और ना ही आईएमए के पास कोई रिसर्च सेंटर है. मैंने आईएमए की कोई मानहानि नहीं की, बल्कि मुझे आईएमए पर मानहानि का मुदमा करना चाहिए. उन्होंने कहा कि वे 90 प्रतिशत डॉक्टरों का सम्मान करते हैं, लेकिन कुछ डॉक्टरों ने लूट मचा रखी है.


 रामदेव ने एलोपैथी दवाओं के साथ योग को भी बताया जरूरी 

एलोपैथी पर दिए गए बयान को लेकर बाबा रामदेव ने आईएमए पर राजनीति करने का आरोप लगाया और कहा कि उनका बयान व्हाट्सऐप से मिली एक जानकारी पर आधारित था. उन्होंने कहा, आईएमए के डॉक्टर असभ्यता से बात करते हैं और वे राजनीति पर उतर आए हैं. मेरा बयान आधिकारिक नहीं था. व्हाट्सऐप पर एक जानकारी आई थी, जिसे मैंने सिर्फ साझा किया. रामदेव ने आगे कहा, मेरे मन में किसी के लिए दुराग्रह नहीं है और मैं मानता हूं कि एलोपैथी ने करोड़ों जान बचाईं, लेकिन एलोपैथी में कई रोगों की दवाई नहीं है. हालांकि उन्होंने कहा कि एलोपैथी से घृणा का कोई सवाल नहीं है, पर आयुर्वेद का सम्मान होना चाहिए. उन्होंने एलोपैथी दवाओं के साथ योग को भी जरूरी बताया और कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना वायरस से हमें मिलकर लड़ना होगा.

क्या था 

विवाद गौरतलब है कि कोरोना वायरस संक्रमितों के इलाज में इस्तेमाल की जा रहीं कुछ दवाओं पर रामदेव द्वारा सवाल उठाने जाने पर विवाद खड़ा हो गया था. पिछले दिनों सोशल मीडिया पर जारी एक वीडियो में बाबा रामदेव कथित तौर पर एलोपैथी को एक स्टूपिड और दिवालिया साइंस बताते नजर आते हैं. वीडियो में रामदेव को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि कोविड-19 के लिए एलोपैथिक दवाएं लेने से लाखों लोग मर गए. उन्हें कोरोना वायरस के इलाज के लिए इस्तेमाल की जा रही कुछ दवाओं पर सवाल उठाते हुए भी सुना जा सकता है.


रामदेव ने IMA को लिखा था खुला पत्र

रामदेव की इन टिप्पणियों का कड़ा विरोध हुआ, जिसके बाद केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने उनसे बेहद दुर्भाग्यपूर्ण बयान वापस लेने को कहा. रामदेव ने रविवार (23 मई) को मजबूर होकर अपना बयान वापस ले लिया. अगले दिन उन्होंने भारतीय चिकित्सा संघ (आईएमए) को खुला पत्र लिखकर 25 सवाल पूछे. उन्होंने पूछा कि क्या एलोपैथी से बीमारियों से स्थायी रूप से छुटकारा मिल जाता है.

Popular posts
फ्रैंकलिन टेम्पलटन मध्य प्रदेश में फ्रैंकलिन इंडिया बैलेंस्ड एडवांटेज फंड (FIBAF) कर रहे हैं लॉन्च • FIBAF का लक्ष्य फ्रैंकलिन टेम्पलटन के इन-हाउस प्रोप्रिटेरी डायनामिक अस्सेस्ट एल्लोकेशन मॉडल से प्राप्त, दोनों दुनिया के सर्वश्रेष्ठ को जोड़ना है • फ्रैंकलिन टेम्पलटन के लिए मध्य प्रदेश एक प्रमुख ग्रोथ मार्केट है, जिसका उद्योग एयूएम इंदौर, भोपाल, जबलपुर और ग्वालियर सहित अन्य जैसे शहरों में लगभग ५२,000 करोड़ रूपए का है
Image
Little Caesars Offers a Fresh Out of the Oven Business Proposition to Investors
Image
अदाणी फाउंडेशन द्वारा जैसलमेर में 'आज़ादी का अमृत महोत्सव' का आगाज़
Image
वन मैन आर्मी विद्युत के कमरतोड़ पंच के लिए तैयार हो जाइए, सिर्फ एंड पिक्चर्स पर ~ सैटरडे प्रीमियर पार्टी में देखिए एक्शन हीरो विद्युत जामवाल अभिनीत ‘सनक’ का प्रीमियर, 4 जून को रात 8 बजे, सिर्फ एंड पिक्चर्स पर ~
Image
*सलमान खान बताते हैं कि उनके फिटनेस ट्रेनर कैसे उन्हें और ‘आरआरआर’ के लिए रामचरण को ट्रेनिंग देने की जद्दोजहद करते थ*
Image