जल सकारात्मक वातावरण के निर्माण की दिशा में अदाणी फाउंडेशन के महत्वपूर्ण कदम



अहमदाबाद, 22 मार्च 2022: बड़े होने के साथ हमने अक्सर सुना होगा कि इस ग्रह पर पानी प्राकृतिक रूप से प्रचुर मात्रा में उपलब्ध है। हालांकि, पिछले कुछ दशकों में, जीवन का यह स्रोत आश्चर्यजनक दर से कम हो रहा है। भारत गंभीर पानी की कमी का सामना कर रहा है जिससे हमें न केवल पानी के संरक्षण के तरीकों के बारे में सोचने पर मजबूर किया है बल्कि इसके अधिकतम उत्पादन के लिए रिसायकल और री-यूस जैसे विकल्पों पर भी काम किया जा रहा है।

इस गंभीर मुद्दे के बारे में अधिक जागरूकता पैदा करने के साथ-साथ व्यावहारिक समाधानों पर ध्यान केंद्रित करने के लिए, हर साल 22 मार्च को विश्व जल दिवस मनाया जाता है। इस वर्ष की थीम 'भूजल: अदृश्य को दृश्यमान बनाना' है। भूजल जलभृतों  को सबसे महत्वपूर्ण स्रोतों में से एक माना जाता है, यह चट्टानों, रेत और बजरी की भूवैज्ञानिक संरचनाएं होती हैं, जिनमें पर्याप्त मात्रा में पानी होता है।

यह पेयजल, स्वच्छता, खाद्य उत्पादन और औद्योगिक प्रक्रियाओं के लिए उपयोग की जाने वाली जल आपूर्ति के मुख्य स्रोतों में से एक है। न केवल भूजल को बचाने के लिए एक स्थायी समाधान निकालने हेतु बल्कि एक जल-सकारात्मक वातावरण के प्रति जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से, अदाणी समूह की सीएसआर शाखा, अदाणी फाउंडेशन, देशभर में पानी की कमी झेल रहे कई क्षेत्रों में लोगों तक पानी पहुंचाने या लम्बे समय के लिए पानी की समस्या को दूर करने के लिए लगातार कार्य कर रहा है। कच्छ, भुज, गांधीधाम (गुजरात) के सूखे क्षेत्रों से लेकर पानी की कमी वाले तिरोरा (महाराष्ट्र) के अंदरूनी इलाकों तक, अदाणी फाउंडेशन जल संरक्षण के लिए व्यवस्थित रूप से काम कर रहा है।

टाइम टेस्टेड, आसान और प्रभावी तकनीकों का उपयोग करना:

नितिन शिरलकर, यूनिट सीएसआर हेड, तिरोरा, जो तिरोरा और आसपास के गांवों में जल संरक्षण पर काम कर रहे हैं, बताते हैं, "आज के समय में, पानी, विशेष रूप से भूजल का संरक्षण एक आवश्यकता बनती जा रही है। पिछले कुछ वर्षों से, हम भूजल को रिस्टोर करने के लिए सरल और प्रभावी तकनीकों पर प्रयोग कर रहे हैं और माजी मालगुजारी तालाब जैसे पारंपरिक जल टैंक संरचनाएं, स्थायी जल संसाधन प्रबंधन के लिए कार्य कर रही हैं। सरकार और किसान समुदाय इन पहलों के लिए हमारा समर्थन कर रहे हैं। हम तालाबों और नालों को गहरा करने की दिशा में काम कर रहे हैं। हम प्रत्येक 100 मीटर के लिए, छह मीटर को अछूते छोड़ देते हैं, जिसने हमारे लिए बहुत अच्छा काम किया है, क्योंकि यह मानसून के कुछ हफ्तों के बाद लंबे समय तक पानी बरकरार रखता है। इससे हमें जल स्तर को 3-4 मीटर तक बढ़ाने में मदद मिली है। चिकली, मालपुरी और बरबसपुरा जैसे आसपास के कई गांव इससे लाभान्वित हो रहे हैं।

कच्छ, भुज, मुंद्रा और मांडवी जैसे सूखे क्षेत्रों में भी, सीएसआर शाखा निरंतर जल आपूर्ति और संरक्षण को बनाए रखने की दिशा में कार्य कर रही है। मुंद्रा की यूनिट सीएसआर हेड, पंक्ति शाह, बताती हैं, "पिछले दो वर्षों में, अदाणी फाउंडेशन ने कच्छ जिले में 18 चेक डैम बनाए हैं, जिससे भंडारण क्षमता में  505 मिलियन लीटर तक की वृद्धि हुई है। इसके अतिरिक्त, अधिक भंडारण क्षमता का निर्माण करते हुए 44 तालाबों को भी गहरा किया गया है। साथ ही 54 तालाब, 75 बोरवेल, 54 छत जल संचयन प्रतिष्ठान के साथ 1,505 ड्रिप्पिंग सिंचाई सुविधाएं स्थापित की गई हैं। इन सुविधाओं के लिए किसान समुदाय, पंचायत और सरकार ने हमारा समर्थन किया है। इन पहलों से न केवल 218,500 से अधिक लोगों के जीवन में सकारात्मक बदलाव आया है, बल्कि इसने पानी में टीडीएस (कुल घुलित ठोस) को लगभग 19.6% तक कम करने में भी मदद मिली है। हाल ही में सरकार द्वारा इन पहलों के लिए अदाणी फाउंडेशन को सम्मानित किया गया था।

फाउंडेशन के कुछ अन्य उल्लेखनीय कार्यों में भांडुत, (सूरत) में सौर जल पंपों की स्थापना शामिल है, जिसने लगभग 37 विधवा किसानों को बेहतर फसल, एक स्थायी आय और खेती के लिए एक सुरक्षित वातावरण प्रदान करने में सक्षम बनाया है। डीजल पानी के पंप जिन्हें बाद में सौर जल पंपों द्वारा बदल दिया गया था, ने न केवल सिंचाई की समस्याओं को हल किया है बल्कि कार्बन फूटप्रिंट्स को भी कम किया है, जिससे लगभग 270 परिवारों को बेहतर आजीविका की ओर अग्रसर करने में मदद मिली है।

बंजर भूमि को बायोडायवर्सिटी पार्क में बदलना: बायोडायवर्सिटी पार्क की मदद से वनस्पतियों और जीवों का निर्माण

एक अन्य मामले में, सीएसआर टीम ने कुंजर (राजस्थान) में एक बंजर भूमि को बायोडायवर्सिटी पार्क में बदल दिया है, जो वायु प्रदूषण को कम करने, भूजल को रिचार्ज करने और जलवायु परिवर्तन को रोकने में मदद करता है। फाउंडेशन ने लगभग 200 बीघा बंजर भूमि पर काम शुरू किया है और भूमि सुधार, बाड़ लगाने, जल संरक्षण संरचना जैसी अन्य बहुत सी सुविधाओं के लिए योगदान दिया है। इसके अतिरिक्त 2.5 किमी लंबी ट्रेंच का इस्तेमाल किया गया, जिसमें 1 मीटर चौड़ाई और 1 मीटर गहराई थी, ने जल घुसपैठ में भी मदद की है। साथ ही इस भूमि से गुजरने वाले जल निकासी को 500 मीटर तक साफ कर दिया गया था और जंगली जानवरों, पक्षियों, सरीसृपों और उभयचरों के लिए पानी उपलब्ध कराने के लिए एक एनीकट का निर्माण किया गया था। इन पहलुओं ने उल्लेखनीय रूप से भूजल तालिका में वृद्धि की है, जिसने मिट्टी के कटाव को रोकने, भूमि की मिट्टी की नमी को बढ़ाने और वनस्पति में सुधार करने में मदद की है। इसके आलावा सर्दी और गर्मी के दिनों में पानी की जरूरत को पूरा करने के लिए एक बोरवेल खोदा गया था। पौधों को पानी देने के लिए आवश्यक पाइप और उपकरण उपलब्ध कराए गए। परिणामस्वरूप आज, बायोडायवर्सिटी पार्क 150 से अधिक विशिष्ट प्रजातियों के 20,000 से अधिक पेड़ों का घर है।

जल सकारात्मकता की दिशा में सतत कदम

पानी की सकारात्मकता की दिशा में एक और कदम उठाते हुए, तमिलनाडु में अदाणी ग्रीन एनर्जी लिमिटेड (एजीईएल) का 648-मेगावाट कामुथी सोलर प्लांट, जल सकारात्मक बनने वाला अपनी श्रेणी का पहला संयंत्र बन गया। इसका मतलब यह है कि जल संरक्षण, खपत किए गए पानी से अधिक है। यह परियोजना 2,500 एकड़ में फैली हुई है और राज्य के अपेक्षाकृत सूखे हिस्से में स्थित है। संयंत्र ने 52,982 m3 (घन मीटर) का वाटर क्रेडिट तैयार किया है जो वर्ष 2020-21 के लिए इसकी पानी की खपत से अधिक है। सोलर पैनल्स की रोबोटिक क्लीनिंग, रेन वाटर हार्वेस्टिंग, और एक दूसरों के बीच ड्रिप के उपयोग सहित विभिन्न पहलों के माध्यम से पानी की उपलब्धता संभव हुई है।

कामुथी परियोजना की सफलता के बाद, एक और सोलर प्लांट, 40 मेगावाट का बिट्टा सोलर प्लांट, कच्छ (गुजरात) वाटर पॉजिटिव हो गया है। एक शुष्क क्षेत्र में स्थित इसने 21,083 kl का जल क्रेडिट बनाया है, जो कि वर्ष 2021-22 के लिए पानी की खपत से अधिक है। सोलर पावर प्लांट्स, अपने प्रदर्शन को अनुकूलित करने के लिए पैनल की सफाई हेतु पानी का उपयोग करते हैं जबकि एक छोटे हिस्से का उपयोग घरेलू खपत के लिए भी किया जाता है। अदाणी समूह ने तालाब को गहरा करके और तटीय क्षेत्र को मजबूत करके, सोलर पावर प्लांट्स से पानी की निकासी बढ़ाने तथा भूजल रिचार्ज, व पानी की खपत को कम करके, गांव के तालाबों को जलमग्न कर, कठिनाई को कम किया है।

अदाणी समूह और अदाणी फाउंडेशन न केवल जल संरक्षण की दिशा में काम कर रहे हैं, बल्कि पानी को सकारात्मक बनाने में भी विश्वास करते हैं और सभी के लिए इन स्थायी लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए छोटे लेकिन महत्वपूर्ण कदम उठा रहे हैं।


अदाणी फाउंडेशन के बारे में:

1996 में स्थापित, अदाणी फाउंडेशन वर्तमान में 18 राज्यों में सक्रिय है, जिसमें देश भर के 2250 गाँव और कस्बे शामिल हैं। फाउंडेशन के पास प्रोफेशनल लोगों की टीम है, जो नवाचार, जन भागीदारी और सहयोग की भावना के साथ काम करती है। वार्षिक रूप से 3.2 मिलियन से अधिक लोगों के जीवन को प्रभावित करते हुए अदाणी फाउंडेशन चार प्रमुख क्षेत्रों- शिक्षा, सामुदायिक स्वास्थ्य, सतत आजीविका विकास और बुनियादी ढा़ंचे के विकास, पर ध्यान केंद्रित करने के साथ सामाजिक पूंजी बनाने की दिशा में काम करता है। अदाणी फाउंडेशन ग्रामीण और शहरी समुदायों के समावेशी विकास और टिकाऊ प्रगति के लिए कार्य करता है, और इस तरह, राष्ट्र-निर्माण में अपना योगदान देता है। अधिक जानकारी के लिए: www.adanifoundation.org

मीडिया के प्रश्नों के लिए, रॉय पॉल: roy.paul@adani.com

Popular posts
हम फिल्म को यथासंभव वास्तविक रखना चाहते थे": नवोदित निर्देशक सुदर्शन गामारे*
Image
अपना दल (एस) मध्य प्रदेश कार्यकारिणी का गठन, विभिन्न पदों पर सौंपी जिम्मेदारियां अनुभवी, युवा व महिला सदस्यों पर जोर स्वदेशी कू समेत सभी सोशल प्लेटफॉर्म्स पर सक्रियता डिजिटल टूल्स द्वारा नए सदस्यों को जोड़ने की कवायद
Image
न्यूज 24 (बीएजी नेटवर्क) ने पॉडकास्ट 24- आवाज सबकी किया लॉन्च
Image
भारत का सबसे बड़ा कार डीलरशिप नेटवर्क, ग्रुप लैंडमार्क अब पंजाब पहुंचा o ग्रुप लैंडमार्क ने राज्य में दो नए लैंडमार्क शोरूम लॉन्च करते हुए पंजाब में अपनी मौजूदगी बढ़ाई। o जीप मेरिडियन में 2.0-लीटर टर्बोचार्ज्ड डीजल इंजन लगा हुआ है। o इस इवेंट में लोकप्रिय गायक जस्सी गिल के साथ ग्रुप लैंडमार्क की एम.डी गरिमा मिश्रा और सी.एम.ओ रेणुका डुडेजा ने भागीदारी की। लुधियाना, 21 मई, 2022: भारत में सबसे बड़े कार डीलरशिप नेटवर्क का परिचालन करने वाले, ग्रुप लैंडमार्क, ने पंजाब में दो नए लैंडमार्क शोरूम लॉन्च करने की घोषणा की। इन दो नए जीप लैंडमार्क शोरूम में से पहला लुधियाना में, और दूसरा जालंधर में स्थित है। कंपनी ने नई जीप मेरिडियन एसयूवी के साथ नए बाजार में अपनी मौजूदगी दर्ज की है, जिसे हाल ही में 29.9 लाख रुपये से लेकर 36.95 लाख रुपये (एक्स-शोरूम) की प्रारंभिक मूल्य सीमा के साथ लॉन्च किया गया था। इस मेड-इन-इंडिया और मेड-फॉर-इंडिया थ्री-रो जीप एसयूवी को लुधियाना के लैंडमार्क जीप शोरूम में एक इवेंट में प्रदर्शित किया गया, जिसमें लोकप्रिय गायक जस्सी गिल तथा ग्रुप लैंडमार्क की एम.डी गरिमा मिश्रा और सी.एम.ओ रेणुका डुडेजा ने भाग लिया। पंजाब में दो नए लैंडमार्क शोरूम के लॉन्च के मौके पर, ग्रुप लैंडमार्क के चेयरमैन और संस्थापक, संजय ठक्कर ने कहा कि "1998 से, ग्रुप लैंडमार्क ने अपना ध्यान देश में कार खरीदारों को एक नया अनुभव प्रदान करने पर केंद्रित किया है, जिसकी वजह से कंपनी इंडस्ट्री की प्रमुख कंपनी के रूप में विकसित हुई है, और इस उपलब्धि को हासिल करने में देश भर में बेहतरीन कार डीलरशिप के विशाल नेटवर्क की महत्वपूर्ण भूमिका है। इस विकास यात्रा को जारी रखते हुए, पंजाब हमारे लिए साफ तौर पर एक पसंदीदा जगह थी, क्योंकि क्षेत्र के निवासियों की बढ़ती संपन्नता के कारण, यह राज्य क्षमताओं से भरा हुआ है। जीप मेरिडियन पहले से ही जोखिम उठाने की अपनी साहसिक विशेषज्ञता के लिए जाना जाता है और अब यह वाहन राज्य में ग्रुप लैंडमार्क की मौजूदगी की घोषणा करने के लिए एक आदर्श वाहन के रूप में मौजूद रहा।” पंजाब के ऑटोमोटिव बाजार में ग्रुप लैंडमार्क का प्रवेश ग्रुप लैंडमार्क के दो जीप डीलरशिप के लॉन्च के साथ शुरू हो गया है: एक जालंधर में और दूसरा लुधियाना में। जालंधर शोरूम, जीटी रोड पर स्थित है, जो कुल 12,000 वर्ग फुट के क्षेत्र में फैला हुआ है, और लुधियाना शोरूम कुल 8,000 वर्ग फुट के क्षेत्र में फैला हुआ है। जीप मेरिडियन अपने साथ उत्साह और विशेषज्ञता का एक अनूठा मिश्रण लेकर आया है, जिसमें एडवान्स्ड आर्किटेक्चर, शानदार डिजाइन, शक्तिशाली तकनीकी खूबियों और पूरे सेगमेंट में अग्रणी रूप से मौजूद कई विशेषताएं हैं। इसके अलावा, इसमें फ़्रीक्वेंसी सेलेक्टिव डैम्पिंग (एफएसडी) तकनीक के साथ पूरी तरह से स्वतंत्र फ्रंट एवं रियर सस्पेंशन सेटअप, सबसे अच्छा कूलिंग परफॉरमेंस आदि शामिल हैं। जीप मेरिडियन 2.0-लीटर टर्बोचार्ज्ड डीजल इंजन द्वारा परिचालित है जो 3,750 आरपीएम पर 125 किलोवाट (170 एचपी) जेनेरेट करता है और 1,750-2,500 आरपीएम के बीच 350 एनएम का अधिकतम टॉर्क उपलब्ध है। दोनों उपलब्ध ट्रिम्स, यानी लिमिटेड और लिमिटेड (O), 4x2 फ्रंट-व्हील ड्राइव और छह-स्पीड मैनुअल ट्रांसमिशन और नौ-स्पीड ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन के विकल्प के साथ उपलब्ध हैं। लिमिटेड (O) ट्रिम में 4x4 ऑल-व्हील ड्राइव के साथ नौ-स्पीड ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन भी उपलब्ध है। ग्रुप लैंडमार्क के बारे में ग्रुप लैंडमार्क भारत में सबसे बड़े प्रीमियम और लक्जरी ऑटोमोटिव रिटेल व्यवसायों में से एक है, जिसमें मर्सिडीज-बेंज, वोक्सवैगन, होंडा, जीप, रेनॉल्ट और बीवाईडी जैसे शीर्ष स्तरीय ब्रांड की डीलरशिप उपलब्ध है। ग्राहकों को शुरू से अंत तक अद्वितीय खरीदारी अनुभव प्रदान करने के लिए, कंपनी सामान्य ऑटोमोटिव डीलरशिप के दायरे से आगे है, क्योंकि ऑटोमोटिव रिटेल वैल्यू चेन में ग्रुप लैंडमार्क की मजबूत उपस्थिति है। इसके अलावा, इसमें नए वाहनों की बिक्री के अलावा कई सारी सेवाएं शामिल हैं, जैसे पूर्व-स्वामित्व वाले यात्री वाहनों की आफ्टर-सेल्स सर्विस और थर्ड पार्टी फाइनेंशियल और इंश्योरेंस प्रोडक्ट्स। ग्रुप लैंडमार्क ने 1998 में अपनी पहली डीलरशिप शुरू की, और तब से, आठ राज्यों में 115 आउटलेट्स को शामिल करके अपने नेटवर्क का विस्तार किया है। ग्रुप लैंडमार्क के बारे में अधिक जानकारी के लिए देखें: www.grouplandmark.in
Image
हेल्थकेयर स्टार्टअप 'फर्स्टक्योर' उचित देखभाल के साथ सर्जरी को बना रहा है आसान
Image