Rajasthan :चुनाव परिणामों से पहले गलत सूचनाओं को रोकने के लिए Koo App ने जारी की एडवाइजरी ● सूचना की पुष्टि करने के मकसद से यूजर्स को प्रतिष्ठित फैक्ट-चेकर्स तक पहुंच प्रदान की ● फर्जी खबरों और अनुचित कंटेंट को बढ़ावा देने वाले 800 से ज्यादा स्पैम खातों पर लगाई पाबंदी ● ऑनलाइन स्वीकृत या प्रतिबंधित चीज़ों के बारे में यूजर्स को सशक्त और संवेदनशील बनाने के लिए कई भाषाओं में सामुदायिक दिशानिर्देश जारी किए 4 मार्च 2022: उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर में चुनाव परिणामों से पहले Koo App ने एक एडवाइजरी जारी की है। इसका मकसद यूजर्स को जिम्मेदार ढंग से सोशल मीडिया का इस्तेमाल करने के साथ गलत सूचना और फर्जी खबरों पर अंकुश लगाने के लिए संवेदनशील बनाना है। एडवाइजरी के हिस्से के रूप में कू ऐप ने प्लेटफॉर्म पर मौजूद सभी 10 भाषाओं में अपने सामुदायिक दिशानिर्देश (Community Guidelines) भी जारी किए हैं। ये दिशानिर्देश भारतीय संदर्भ से जुड़े हुए हैं और क्रिएटर्स के साथ ही पहली बार सोशल मीडिया इस्तेमाल करने वाले यूजर्स को ज्यादा बेहतर कंटेंट बनाने के लिए सशक्त बनाते हैं, इसके अलावा यह भी बताते हैं कि जिम्मेदार ऑनलाइन आचरण क्या होता है। ये दिशानिर्देश फर्जी खबरों और गलत सूचनाओं का विशिष्ट संदर्भ देते हैं और यूजर्स को कुछ भी पोस्ट करने से पहले जानकारी को सत्यापित करने के महत्व पर सूचित करने के साथ ही पर्याप्त सबूत के बिना किसी सूचना को 'फर्जी’ के रूप में करार दिए जाने से भी बचाते हैं। चूंकि चुनाव परिणामों से पहले सोशल मीडिया पर आम तौर पर गलत सूचनाओं में बढ़ोतरी देखने को मिलती है, इसलिए कू ऐप ने यूजर्स को सूचना को प्रमाणित करने के मकसद से प्रमुख थर्ड पार्टी फैक्ट-चेकर्स तक पहुंच भी प्रदान की है। सोशल मीडिया मध्यवर्ती होने के नाते जब तक कि कानून द्वारा जरूरी न हो, कू ऐप स्वयं ना तो इन सूचनाओं के पुख्ता होने का आकलन करता है और ना ही कंटेंट में हस्तक्षेप करता है; और इस प्रकार फैक्ट-चेकर्स तक पहुंच को सक्षम बनाकर ऑनलाइन सुरक्षा और पारदर्शिता के निर्माण के प्रति अपनी प्रतिबद्धता दोहराता है। चूंकि फर्जी खबरें (फेक न्यूज) अक्सर बोट्स या स्पैम खातों द्वारा फैलाई जाती हैं, इसलिए कू ऐप गलत सूचनाओं को सीमित करने के लिए ऐसे खातों की गतिविधियों पर लगातार नजर रखता है और इन्हें प्रतिबंधित करता है। बीते 1 दिसंबर 2021 से 28 फरवरी 2022 तक कू पर स्वयं को समाचार चैनल या पत्रकार के रूप में पेश करने वाले या किसी भी तरह से समाचार से संबंधित होने वाले हैंडल की संख्या 4,720 से अधिक थी, जिसमें से स्पैम या अनुचित सामग्री के कारण 834 को प्रतिबंधित कर दिया गया है। कू इनके व्यवहार की लगातार निगरानी कर रहा है। कू ऐप के सीईओ और सह-संस्थापक अप्रमेय राधाकृष्ण ने कहा, “मूल भाषाओं में आत्म-अभिव्यक्ति के लिए एक सोशल प्लेफॉर्म के रूप में हम क्रिएटर्स का स्वागत करते हैं और यूजर्स को रचनात्मकता और नवाचार को बढ़ावा देने के लिए ऑनलाइन अधिक समग्र दृष्टिकोण अपनाने के लिए सशक्त बनाते हैं। महत्वपूर्ण घटनाओं से पहले गलत सूचना चिंता का एक प्रमुख विषय है। इस एडवाइडरी के जरिये कू ऐप एक जिम्मेदार मंच के रूप में फर्जी खबरों और द्वेष के प्रसार को रोकने में मदद कर सकता है और अधिक ऑनलाइन सुरक्षा और पारदर्शिता को बढ़ावा दे सकता है। ये एडवाइजरी यूजर्स, विशेष रूप से पहली बार सोशल मीडिया का इस्तेमाल करने वाले यूजर्स को सकारात्मक और सम्मानजनक तरीके से तकनीक का फायदा उठाने के लिए प्रोत्साहित करेगी ताकि ज्यादा सार्थक ऑनलाइन संवाद का निर्माण किया जा सके। कू यूजर्स को एक सुरक्षित और व्यापक अनुभव प्रदान करने के लिए लगातार सबसे बेहतरीन तरीकों की पहचान करने का प्रयास करता है।" चुनावों के दौरान सोशल मीडिया के नैतिक इस्तेमाल के लिए इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (IAMAI) द्वारा स्वैच्छिक आचार संहिता के एक हस्ताक्षरकर्ता के रूप में कू ऐप चुनावी प्रक्रिया में ज्यादा भरोसा पैदा करने के लिए मतदाता साक्षरता को भी बढ़ा रहा है। भारत के संविधान के मुताबिक पहली बार के मतदाताओं को उनके अधिकारों और जिम्मेदारियों पर सशक्त बनाने के लिए मंच ने कू वोटर्स गाइड जारी की हैं। इन्हें चुनाव से पहले कई भाषाओं में पेश किया गया और मतदाता जागरूकता अभियानों जैसे प्लेज टू वोट, यूपी का घोषणापत्र को सफलतापूर्वक पूरा किया है। कू के बारे में Koo App की लॉन्चिंग मार्च 2020 में भारतीय भाषाओं के एक बहुभाषी, माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म के रूप में की गई थी, ताकि भ…


4 मार्च 2022: उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर में चुनाव परिणामों से पहले Koo App ने एक एडवाइजरी  जारी की है। इसका मकसद यूजर्स को जिम्मेदार ढंग से सोशल मीडिया का इस्तेमाल करने के साथ गलत सूचना और फर्जी खबरों पर अंकुश लगाने के लिए संवेदनशील बनाना है। एडवाइजरी के हिस्से के रूप में कू ऐप ने प्लेटफॉर्म पर मौजूद सभी 10 भाषाओं में अपने सामुदायिक दिशानिर्देश (Community Guidelines) भी जारी किए हैं। ये दिशानिर्देश भारतीय संदर्भ से जुड़े हुए हैं और क्रिएटर्स के साथ ही पहली बार सोशल मीडिया इस्तेमाल करने वाले यूजर्स को ज्यादा बेहतर कंटेंट बनाने के लिए सशक्त बनाते हैं, इसके अलावा यह भी बताते हैं कि जिम्मेदार ऑनलाइन आचरण क्या होता है। ये दिशानिर्देश फर्जी खबरों और गलत सूचनाओं का विशिष्ट संदर्भ देते हैं और यूजर्स को कुछ भी पोस्ट करने से पहले जानकारी को सत्यापित करने के महत्व पर सूचित करने के साथ ही पर्याप्त सबूत के बिना किसी सूचना को 'फर्जी’ के रूप में करार दिए जाने से भी बचाते हैं। 


चूंकि चुनाव परिणामों से पहले सोशल मीडिया पर आम तौर पर गलत सूचनाओं में बढ़ोतरी देखने को मिलती है, इसलिए कू ऐप ने यूजर्स को सूचना को प्रमाणित करने के मकसद से प्रमुख थर्ड पार्टी फैक्ट-चेकर्स तक पहुंच भी प्रदान की है। सोशल मीडिया मध्यवर्ती होने के नाते जब तक कि कानून द्वारा जरूरी न हो, कू ऐप स्वयं ना तो इन सूचनाओं के पुख्ता होने का आकलन करता है और ना ही कंटेंट में हस्तक्षेप करता है; और इस प्रकार फैक्ट-चेकर्स तक पहुंच को सक्षम बनाकर ऑनलाइन सुरक्षा और पारदर्शिता के निर्माण के प्रति अपनी प्रतिबद्धता दोहराता है।


चूंकि फर्जी खबरें (फेक न्यूज) अक्सर बोट्स या स्पैम खातों द्वारा फैलाई जाती हैं, इसलिए कू ऐप गलत सूचनाओं को सीमित करने के लिए ऐसे खातों की गतिविधियों पर लगातार नजर रखता है और इन्हें प्रतिबंधित करता है। बीते 1 दिसंबर 2021 से 28 फरवरी 2022 तक कू पर स्वयं को समाचार चैनल या पत्रकार के रूप में पेश करने वाले या किसी भी तरह से समाचार से संबंधित होने वाले हैंडल की संख्या 4,720 से अधिक थी, जिसमें से स्पैम या अनुचित सामग्री के कारण 834 को प्रतिबंधित कर दिया गया है। कू इनके व्यवहार की लगातार निगरानी कर रहा है।


कू ऐप के सीईओ और सह-संस्थापक अप्रमेय राधाकृष्ण ने कहा, “मूल भाषाओं में आत्म-अभिव्यक्ति के लिए एक सोशल प्लेफॉर्म के रूप में हम क्रिएटर्स का स्वागत करते हैं और यूजर्स को रचनात्मकता और नवाचार को बढ़ावा देने के लिए ऑनलाइन अधिक समग्र दृष्टिकोण अपनाने के लिए सशक्त बनाते हैं। महत्वपूर्ण घटनाओं से पहले गलत सूचना चिंता का एक प्रमुख विषय है। इस एडवाइडरी के जरिये कू ऐप एक जिम्मेदार मंच के रूप में फर्जी खबरों और द्वेष के प्रसार को रोकने में मदद कर सकता है और अधिक ऑनलाइन सुरक्षा और पारदर्शिता को बढ़ावा दे सकता है। ये एडवाइजरी यूजर्स, विशेष रूप से पहली बार सोशल मीडिया का इस्तेमाल करने वाले यूजर्स को सकारात्मक और सम्मानजनक तरीके से तकनीक का फायदा उठाने के लिए प्रोत्साहित करेगी ताकि ज्यादा सार्थक ऑनलाइन संवाद का निर्माण किया जा सके। कू यूजर्स को एक सुरक्षित और व्यापक अनुभव प्रदान करने के लिए लगातार सबसे बेहतरीन तरीकों की पहचान करने का प्रयास करता है।"


चुनावों के दौरान सोशल मीडिया के नैतिक इस्तेमाल के लिए इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (IAMAI) द्वारा स्वैच्छिक आचार संहिता के एक हस्ताक्षरकर्ता के रूप में कू ऐप चुनावी प्रक्रिया में ज्यादा भरोसा पैदा करने के लिए मतदाता साक्षरता को भी बढ़ा रहा है। भारत के संविधान के मुताबिक पहली बार के मतदाताओं को उनके अधिकारों और जिम्मेदारियों पर सशक्त बनाने के लिए मंच ने कू वोटर्स गाइड जारी की हैं। इन्हें चुनाव से पहले कई भाषाओं में पेश किया गया और मतदाता जागरूकता अभियानों जैसे प्लेज टू वोट, यूपी का घोषणापत्र को सफलतापूर्वक पूरा किया है।


कू के बारे में


Koo App की लॉन्चिंग मार्च 2020 में भारतीय भाषाओं के एक बहुभाषी, माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म के रूप में की गई थी, ताकि भ…

Popular posts
हम फिल्म को यथासंभव वास्तविक रखना चाहते थे": नवोदित निर्देशक सुदर्शन गामारे*
Image
अपना दल (एस) मध्य प्रदेश कार्यकारिणी का गठन, विभिन्न पदों पर सौंपी जिम्मेदारियां अनुभवी, युवा व महिला सदस्यों पर जोर स्वदेशी कू समेत सभी सोशल प्लेटफॉर्म्स पर सक्रियता डिजिटल टूल्स द्वारा नए सदस्यों को जोड़ने की कवायद
Image
न्यूज 24 (बीएजी नेटवर्क) ने पॉडकास्ट 24- आवाज सबकी किया लॉन्च
Image
भारत का सबसे बड़ा कार डीलरशिप नेटवर्क, ग्रुप लैंडमार्क अब पंजाब पहुंचा o ग्रुप लैंडमार्क ने राज्य में दो नए लैंडमार्क शोरूम लॉन्च करते हुए पंजाब में अपनी मौजूदगी बढ़ाई। o जीप मेरिडियन में 2.0-लीटर टर्बोचार्ज्ड डीजल इंजन लगा हुआ है। o इस इवेंट में लोकप्रिय गायक जस्सी गिल के साथ ग्रुप लैंडमार्क की एम.डी गरिमा मिश्रा और सी.एम.ओ रेणुका डुडेजा ने भागीदारी की। लुधियाना, 21 मई, 2022: भारत में सबसे बड़े कार डीलरशिप नेटवर्क का परिचालन करने वाले, ग्रुप लैंडमार्क, ने पंजाब में दो नए लैंडमार्क शोरूम लॉन्च करने की घोषणा की। इन दो नए जीप लैंडमार्क शोरूम में से पहला लुधियाना में, और दूसरा जालंधर में स्थित है। कंपनी ने नई जीप मेरिडियन एसयूवी के साथ नए बाजार में अपनी मौजूदगी दर्ज की है, जिसे हाल ही में 29.9 लाख रुपये से लेकर 36.95 लाख रुपये (एक्स-शोरूम) की प्रारंभिक मूल्य सीमा के साथ लॉन्च किया गया था। इस मेड-इन-इंडिया और मेड-फॉर-इंडिया थ्री-रो जीप एसयूवी को लुधियाना के लैंडमार्क जीप शोरूम में एक इवेंट में प्रदर्शित किया गया, जिसमें लोकप्रिय गायक जस्सी गिल तथा ग्रुप लैंडमार्क की एम.डी गरिमा मिश्रा और सी.एम.ओ रेणुका डुडेजा ने भाग लिया। पंजाब में दो नए लैंडमार्क शोरूम के लॉन्च के मौके पर, ग्रुप लैंडमार्क के चेयरमैन और संस्थापक, संजय ठक्कर ने कहा कि "1998 से, ग्रुप लैंडमार्क ने अपना ध्यान देश में कार खरीदारों को एक नया अनुभव प्रदान करने पर केंद्रित किया है, जिसकी वजह से कंपनी इंडस्ट्री की प्रमुख कंपनी के रूप में विकसित हुई है, और इस उपलब्धि को हासिल करने में देश भर में बेहतरीन कार डीलरशिप के विशाल नेटवर्क की महत्वपूर्ण भूमिका है। इस विकास यात्रा को जारी रखते हुए, पंजाब हमारे लिए साफ तौर पर एक पसंदीदा जगह थी, क्योंकि क्षेत्र के निवासियों की बढ़ती संपन्नता के कारण, यह राज्य क्षमताओं से भरा हुआ है। जीप मेरिडियन पहले से ही जोखिम उठाने की अपनी साहसिक विशेषज्ञता के लिए जाना जाता है और अब यह वाहन राज्य में ग्रुप लैंडमार्क की मौजूदगी की घोषणा करने के लिए एक आदर्श वाहन के रूप में मौजूद रहा।” पंजाब के ऑटोमोटिव बाजार में ग्रुप लैंडमार्क का प्रवेश ग्रुप लैंडमार्क के दो जीप डीलरशिप के लॉन्च के साथ शुरू हो गया है: एक जालंधर में और दूसरा लुधियाना में। जालंधर शोरूम, जीटी रोड पर स्थित है, जो कुल 12,000 वर्ग फुट के क्षेत्र में फैला हुआ है, और लुधियाना शोरूम कुल 8,000 वर्ग फुट के क्षेत्र में फैला हुआ है। जीप मेरिडियन अपने साथ उत्साह और विशेषज्ञता का एक अनूठा मिश्रण लेकर आया है, जिसमें एडवान्स्ड आर्किटेक्चर, शानदार डिजाइन, शक्तिशाली तकनीकी खूबियों और पूरे सेगमेंट में अग्रणी रूप से मौजूद कई विशेषताएं हैं। इसके अलावा, इसमें फ़्रीक्वेंसी सेलेक्टिव डैम्पिंग (एफएसडी) तकनीक के साथ पूरी तरह से स्वतंत्र फ्रंट एवं रियर सस्पेंशन सेटअप, सबसे अच्छा कूलिंग परफॉरमेंस आदि शामिल हैं। जीप मेरिडियन 2.0-लीटर टर्बोचार्ज्ड डीजल इंजन द्वारा परिचालित है जो 3,750 आरपीएम पर 125 किलोवाट (170 एचपी) जेनेरेट करता है और 1,750-2,500 आरपीएम के बीच 350 एनएम का अधिकतम टॉर्क उपलब्ध है। दोनों उपलब्ध ट्रिम्स, यानी लिमिटेड और लिमिटेड (O), 4x2 फ्रंट-व्हील ड्राइव और छह-स्पीड मैनुअल ट्रांसमिशन और नौ-स्पीड ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन के विकल्प के साथ उपलब्ध हैं। लिमिटेड (O) ट्रिम में 4x4 ऑल-व्हील ड्राइव के साथ नौ-स्पीड ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन भी उपलब्ध है। ग्रुप लैंडमार्क के बारे में ग्रुप लैंडमार्क भारत में सबसे बड़े प्रीमियम और लक्जरी ऑटोमोटिव रिटेल व्यवसायों में से एक है, जिसमें मर्सिडीज-बेंज, वोक्सवैगन, होंडा, जीप, रेनॉल्ट और बीवाईडी जैसे शीर्ष स्तरीय ब्रांड की डीलरशिप उपलब्ध है। ग्राहकों को शुरू से अंत तक अद्वितीय खरीदारी अनुभव प्रदान करने के लिए, कंपनी सामान्य ऑटोमोटिव डीलरशिप के दायरे से आगे है, क्योंकि ऑटोमोटिव रिटेल वैल्यू चेन में ग्रुप लैंडमार्क की मजबूत उपस्थिति है। इसके अलावा, इसमें नए वाहनों की बिक्री के अलावा कई सारी सेवाएं शामिल हैं, जैसे पूर्व-स्वामित्व वाले यात्री वाहनों की आफ्टर-सेल्स सर्विस और थर्ड पार्टी फाइनेंशियल और इंश्योरेंस प्रोडक्ट्स। ग्रुप लैंडमार्क ने 1998 में अपनी पहली डीलरशिप शुरू की, और तब से, आठ राज्यों में 115 आउटलेट्स को शामिल करके अपने नेटवर्क का विस्तार किया है। ग्रुप लैंडमार्क के बारे में अधिक जानकारी के लिए देखें: www.grouplandmark.in
Image
साक्षी तंवर हमारे देश की बेहतरीन अभिनेत्रियों में से एक हैं’’ अनिल कपूर, अनुष्‍का शर्मा ने नेटफ्लिक्‍स इंडिया के ‘माई’ पर की तारीफों की बौछार
Image