शहरकेकपलकोशादीके 23 साल बाद विशिष्ट आई वी एफ प्रक्रिया के माध्यम से प्राप्त हुआ संतान सुख


औरंगाबाद,14जून,2022:23साल तक शादी करने वाले एक कपल ने इंदिरा आई वी एफ औरंगबाद केंद्र में उन्नत प्रौद्योगिकी और दाता भ्रूण की मदद से गर्भधारण में सफल रहा।सरिता, 39 (नामबदलगया) और उसके पति,रघु (नामबदलगया) की23 साल पहले शादी हुई थी।तब से वो बच्चे के लिए कोशिश कर रहे थे, लेकिन चार राउंड के आई वी एफ के बाद भी वो असफल रहे।फिर उन्होंने शहर स्थित इंदिरा आई वी एफ सेंटर से संपर्ककिया।

इंदिरा आई वी एफ के मूल्यांकन से पता चला कि महिला साथी में पतले एंडोमेट्रियम के साथ डिम्बग्रंथि रिजर्व(अंडे की अपर्याप्त संख्या) कम था और पति का सीमेन पैरामीटर भी ठीक नहीं था। इसके साथ ही, सरिता का क्रोनिक हाइपरटेंशन, डायबिटीज, हाइपोथायरायड का भी इतिहास रहा है, और पेट के कोचों के लिए उपचार किया था, आंतों जैसे पेट के अंगों में एक प्रकार का अतिरिक्त फुफ्फुसीय तपेदिक। इससे पहले कि वे अन्य क्लीनिकों में चार असफल आईवीएफ उपचार से गुजर चुके थे, इसलिए किसी भी उपयोगी परिणाम के बारे में आशंकित थे। हालांकि, इंदिरा आईवीएफ के अनुभवी डॉक्टरों ने परामर्श किया और उन्हें उपचार प्रक्रिया शुरू करने के लिए प्रेरित किया।

कपल के मामले ने संकेत दिया कि अपने स्वयं के अंडे और शुक्राणुओं के साथ गर्भावस्था का सेल्फ-साइकिल उसी की कमी के कारण संभव नहीं होगा,और एक दाता चक्र का सहारा लेना होगा।सरिता पर एक हिस्टेरोस्कोपिक पार्श्व दीवार मेट्रोप्लास्टी की गई जो गर्भाशय पर की गई एक पुनर्निर्माण प्रक्रिया है, स्कार ऊतक निकले थे औरफिरएकफोलीकैथेटरको8 दिनों के लिए उसके अंतर्गर्भाशयी गुहा में रखा गया था। इसके बाद तेजी से रिकवरी के लिए प्लेटलेट युक्त प्लाज्मा (पीआरपी) का इंजेक्शन लगाया गया। चूंकि यह डोनर राउंड था, इसलिए भ्रूण स्थानांतरण दान किए गए भ्रूण के साथ किया गया था और दो अच्छी गुणवत्ता वाले ब्लास्टोसिस्ट भ्रूण को सरिता के गर्भाशय में स्थानांतरित कर दिया गया था जब उसकी एंडोमेट्रियल मोटाई 8 मिमी थी। हस्तांतरण के 16 वें दिन, बीटा - ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (बीटा - एचसीजी) परीक्षण ने गर्भावस्था की पुष्टि की जिसके बाद रोगी की क्रोनिक उच्च रक्तचाप की चिकित्सा स्थिति को देखते हुए इसकी बहुत सावधानीपूर्वक निगरानी की गई। 

प्रक्रिया के बारे में विस्तार से बतातेहुए, डॉ. धोंडीरामभारती, इंदिरा आई वी एफ औरंगाबाद ने कहा, “कुछ मामलों में, कुछ जन्म दोषों के कारण समस्याएं, कम डिम्बग्रंथि रिजर्व और चल रही चिकित्सा स्थितियों के साथ,सहायक प्रजनन तकनीक एक समाधान प्रदान करती है। यहां, मरीजों को पहले इस स्थिति को दूर करने के लिए इलाज किया जाता है और फिर भ्रूणस्थानांतरण जैसी प्रक्रिया एंकी जाती हैं ताकि वेगर्भधारण करने में सक्षम हों ।हम हमेशा दंपति को प्रजनन क्षमता के साथ जटिलताओं के लिए समय पर उपचार लेने की सलाह देते हैं।इस मामले में, दंपति की शादी 23 साल तक हुई थी और जब तक हमने इलाज शुरू किया तब तक महिला रोगी 39 थी।इस उम्र में अन्य स्वास्थ्य स्थितियों जैसे उच्चरक्तचाप, मधुमेह और थायराइड रोग के कारण, उपचार प्रक्रिया अधिक जटिल थी। यह समझना जरूरी है कि सही उम्र और समय पर उपचार सकारात्मक परिणाम की संभावना को कई गुना बढ़ा देता है।"

सभी प्रयासों के साथ, सरिता और रघु का माता - पिता बनने का सपना उनके 5 वें आईवीएफ प्रयास पर एक बच्चे के साथ पूरा हुआ और दाता भ्रूण के साथ उनका पहला प्रयास था।

Popular posts
सेंट-गोबेन इंडिया ने रायपुर में अपने एक्‍सक्‍लूसिव ‘माय होम’ स्‍टोर का अनावरण किया*
Image
आसुस ने पहला डिटैचेबल 2-इन-1 गेमिंग टैबलेट- आरओजी फ्लो ज़ेड13 लॉन्च किया
Image
भारती एक्सा लाइफ ने राष्ट्रीय बीमा जागरूकता दिवस से पहले लगातार दूसरे साल अपनी #SawaalPucho पहल को जारी रखा ~ इस कैंपेन की मदद से कंपनी का मकसद बीमा को लेकर ग्राहकों के सभी सवालों का जवाब देना, उन्‍हें बीमा के बारे में शिक्षित करना और जागरुकता बढ़ाना है ~
Image
SBI General Insurance reiterates its commitment towards building and nurturing a healthy India this Yoga Day
Image
आदित्य रॉय कपूर ने एक्शन एंटरटेनर राष्ट्र कवच ओम के लिए अपनी स्ट्रिक्ट डाइट शेयर की*
Image