लुपिन फाउंडेशन ने भरतपुर और अलवर में समुदायों और लोगों के जीवन में बदलाव लाया



भरतपुर, भारत, 13 जुलाई, 2022: विश्व की अग्रणी फार्मा कंपनियों में से एक, लुपिन लिमिटेड (लुपिन) की कॉरपोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी (सीएसआर) शाखा, लुपिन ह्यूमन वेलफेयर एंड रिसर्च फाउंडेशन (एलएचडब्ल्यूआरएफ), ने 3 दशकों से अधिक समय से भरतपुर और अलवर में परिवारों के लिए सामाजिक और आर्थिक कल्याण की गतिविधियों का संचालन किया है। खास तौर पर, फाउंडेशन ने स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) और समुदाय-आधारित संगठनों (सीबीओ) के ज़रिये स्थानीय वैल्यू चेंस को मजबूती प्रदान करने और सामुदायिक नेतृत्व वाले विकास को बढ़ावा देने का प्रयास किया है।


भरतपुर और अलवर लुपिन फाउंडेशन के गतिविधियों के केंद्र हैं। फाउंडेशन की कुछ पहलों में मधुमक्खी पालन, बागवानी क्लस्टर और गैर-कृषि व्यवसाय के आजीविका केंद्र (जैसे, तुलसी माला, पत्थर की नक्काशी, रत्न पॉलिशिंग, मिट्टी के बर्तन और चूड़ी बनाना) शामिल हैं।


लुपिन फाउंडेशन अब आजीविका (लाइवलीहुड्स) और स्वास्थ्य(लाइव्स) समान रूप से ध्यान केंद्रित करने जा रहा है। आजीविका कार्यक्रम का संचालन करते हुए, फाउंडेशन गहन दृष्टिकोण लेकर काम करना जारी रखेगा ताकि भरतपुर और अलवर के चुनिंदा ब्लॉकों में भूमिहीन, कारीगरों, छोटे और सीमांत किसानों के लिए स्थायी आजीविका समाधान प्रदान करने का कार्य कर सके। वंचित परिवारों के स्वास्थ्य में सुधार करने के लिए, फाउंडेशन के लाइफ/हेल्थकेयर प्रोग्रामहेल्थकेयर सिस्टम को मजबूत करते हुए स्वास्थ्य परिणामों को बेहतर बनाएंगे और जीवन की गुणवत्ता में सुधार लाने का प्रयास करेंगे। पहचाने गए राष्ट्रीय महत्व के क्षेत्रों के आधार पर, फाउंडेशन का प्रारंभिक रूप से हृदय और दीर्घकालीन सांस की बीमारियों (सीओपीडी) पर अपना ध्यान केंद्रित करेगा।


श्रीमती तुषारा शंकर, हेड - कॉर्पोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी, लुपिन ने कहा कि "वास्तविक दुनिया की समस्याओं को हल करने के लिए प्रतिबद्धता एवं नजरिये की जरूरत पड़ती है और लुपिन फाउंडेशन 1988 सेविभिन्न क्षेत्रोंमेंमहत्वपूर्णविकासकेलिएगुणवत्तापूर्णकार्य परध्यानकेंद्रितकररहाहै जैसे ग्रामीण उत्थान, जल एवं स्वच्छता, स्वास्थ्य, शिक्षा, आर्थिक सशक्तिकरण, शिक्षा, और कोविड-19 और आपदा राहत। समुदायों के साथ काम करने के अपने समृद्ध अनुभव के साथ, हम भरतपुर और अलवर में लोगों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार लाने की दिशा में अपने प्रभाव को तेज करने के लिए उत्साहित हैं ताकि एक स्थायी और महत्वपूर्ण बदलाव लाया जा सके।"


वर्षों से, लुपिन फाउंडेशन ने जिन लोगों के साथ काम किया है, उन पर गहरा प्रभाव डाला है और उन लोगों के जिन्दगी में सकारात्मक बदलाव लाया है। भरतपुर में 25 गांवों को आर्थिक रूप से मजबूत करने का जो काम एक परियोजना के रूप में शुरू हुआ, वह आज पूरे भारत के 9अन्य राज्यों और 23 जिलों के 5000 से अधिक गांवों में फैल गया।



एलएचडब्ल्यूआरएफ के बारे में

लुपिन ह्यूमन वेलफेयर एंड रिसर्च फाउंडेशन (एलएचडब्ल्यूआरएफ) लुपिन लिमिटेड की सामाजिक जिम्मेदारी शाखा है, जो 1988 से ग्रामीण परिदृश्य पर सकारात्मक प्रभाव डालने के लिए काम कर रही है। अपने तीन दशक के इतिहास के दौरान, फाउंडेशन ने नौ राज्यों के 23 जिलों के 5000 से अधिक गांवों को प्रभावित किया है।संगठन चार विषयगत क्षेत्रों, अर्थात् आर्थिक, सामाजिक, बुनियादी ढांचा विकास और प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन में वंचित समुदायों के विकास के सभी पहलुओं को संबोधित करने के लिए काम कर रहा है। यह कृषि, पशुपालन, महिला सशक्तिकरण और ग्रामीण उद्योगों के क्षेत्र में आर्थिक विकास गतिविधियों का संचालन करता है। सामाजिक गतिविधियों में स्वास्थ्य और शिक्षा शामिल है, जबकि संस्था के परिचालन क्षेत्र में बुनियादी ढांचे का विकास और प्राकृतिक संसाधन विकास पिछड़े क्षेत्रों में विकास के प्रमुख चालक रहे हैं। एलएचडब्ल्यूआरएफने जीवन (हेल्थकेयर) और आजीविका पर काम करने के लिए एक नया रणनीतिक दृष्टिकोण अपनाया है।


लुपिनके बारे में

लुपिनइनोवेशन-केंद्रित अंतरराष्ट्रीय दवा कंपनी है जिसका मुख्यालय भारत के मुम्बई में है। कंपनी ब्रांडेड और जेनेरिक फॉर्मूलेशन, जैव प्रौद्योगिकी उत्पादों और एपीआई की एक विस्तृत श्रृंखला का विकास और व्यावसायीकरण करती है, जो अमेरिका, भारत, दक्षिण अफ्रीका और पूरे एशिया प्रशांत क्षेत्र (एपीएसी), लैटिन अमेरिका (एलएटीएएम), यूरोप और मध्य-पूर्व क्षेत्र के 100 से अधिक बाजारों में उपलब्ध हैं।


कंपनी की कार्डियोवैस्कुलर, एंटी-डायबिटिक और रेस्पिरेटरी सेगमेंट में नेतृत्वकारी भूमिका है और एंटी-इनफेक्टिव, गैस्ट्रो-इंटेस्टाइनल (जीआई), सेंट्रल नर्वस सिस्टम (सीएनएस) और महिला स्वास्थ्य के क्षेत्रों में अहम मौजूदगी है। प्रेसक्रिप्शंस (नुस्खे) के आधार पर, लुपिनअमेरिका की तीसरी सबसे बड़ी दवा कंपनी है। वित्त वर्ष 2012 में कंपनी ने अपने राजस्व का 8.7% अनुसंधान और विकास में निवेश किया।


लुपिन के 15मैन्यूफैक्चरिंग सेंटर्सऔर 7रिसर्च सेंटर्स हैं। कंपनी में 20,000 से अधिक कर्मचारी वैश्विक स्तर पर काम कर रहे हैं, और बायोटेक्नोलॉजी तथा फार्मास्यूटिकल्स क्षेत्र में लगातार 'काम करने के लिए शानदार कार्यस्थल' के रूप में मान्यता प्राप्त है।


अधिक जानकारी के लिए कृपया www.lupin.comको देखें।

हमें फॉलो करें: ट्विटर: https://twitter.com/LupinGlobalलिंक्डइन: https://www.linkedin.com/company/lupinफेसबुक: http://www.facebook.com/LupinWorld/

Popular posts
फ्रैंकलिन टेम्पलटन मध्य प्रदेश में फ्रैंकलिन इंडिया बैलेंस्ड एडवांटेज फंड (FIBAF) कर रहे हैं लॉन्च • FIBAF का लक्ष्य फ्रैंकलिन टेम्पलटन के इन-हाउस प्रोप्रिटेरी डायनामिक अस्सेस्ट एल्लोकेशन मॉडल से प्राप्त, दोनों दुनिया के सर्वश्रेष्ठ को जोड़ना है • फ्रैंकलिन टेम्पलटन के लिए मध्य प्रदेश एक प्रमुख ग्रोथ मार्केट है, जिसका उद्योग एयूएम इंदौर, भोपाल, जबलपुर और ग्वालियर सहित अन्य जैसे शहरों में लगभग ५२,000 करोड़ रूपए का है
Image
मैंने इस शो से शिक्षा की अहमियत सीखी हैं‘‘ - आयुध भानुशालीं, भीमराव, एण्डटीवी के ‘एक महानायक डाॅ बी. आर. आम्बेडकर‘
Image
Clensta Covid 19 Protection Lotion – your long term shield against COVID 19 & the harmful effects of hand sanitisers
Image
भारत में पहली बार आयोजित की जा रही इंटरनेशनल एडवरटाइजिंग कॉन्फ्रेंस 2021
Image
मातृ दिवस‘ पर देखिये एण्डटीवी के आॅन-स्क्रीन माँ-बच्चों का खट्टा-मीठा रिश्ता
Image