ओआरएस को लेकर हमारा जागरूक होना बेहद जरुरी - डॉ. ज्योति वाधवानी, इंटर्नल मेडिसिन स्पेशलिस्ट, मेदांता सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, इंदौर रहिमन पानी राखिए, बिन पानी सब सून पानी गए न ऊबरे, मोती, मानुष, चून॥



पानी / जल की महत्ता से तो हम सभी अवगत हैं ही, लेकिन बीमारी के समय, जब मरीज़ को बुखार, उल्टी-दस्त या कोई भी संक्रमण हो, जिससे मरीज डिहाइड्रेशन या पानी की कमी की वजह से गंभीर अवस्था में जा सकता है। ऐसे में पर्याप्त और उचित मात्रा में, यानि जिसमें समुचित इलेक्ट्रोलिसिस प्रचुर मात्रा में हो, जैसे कि ओआरएस सॉल्यूशन का सेवन दवाई से भी ज्यादा मदद करता है। एक संजीवनी बूटी की तरह यह डिहाइड्रेशन की अवस्था में मरीज के लिए जीवनदायक साबित हो जाता है। ऐसा कहना है डॉ. ज्योति वाधवानी, इंटर्नल मेडिसिन स्पेशलिस्ट, मेदांता सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, इंदौर का। 

आज ओआरएस डे के मौके पर हम स्वयं से भी जागरुक बनें और हमारे आस-पास के सभी लोगों को ओआरएस के महत्व के बारे में समझाएँ, क्योंकि हमारी छोटी-सी कोशिश, तकलीफ में मददगार साबित हो सकती है।

बच्चों में आमतौर पर यह समस्या हम समझ नहीं पाते हैं, जिसके लिए डिहाइड्रेशन के लक्षणों पर गौर करके इसका पता लगाया जा सकता है। बच्चों में डिहाइड्रेशन के मुख्य लक्षणों में तेज़ हृदय गति, कम से कम 8 घंटे तक पेशाब न करना या गहरे रंग का पेशाब, ठंडी या शुष्क त्वचा, तीव्र अनिद्रा, रोते समय आँसुओं की कमी, सूखे होंठ आदि हो सकते हैं।

घर पर ओआरएस तैयार करना बहुत आसान है। इसके लिए आपको 1 लीटर साफ पानी, 6 चम्मच चीनी और आधा छोटा चम्मच नमक की जरुरत होती है। चीनी घुलने तक इस मिश्रण को अच्छी तरह मिलाएँ। अब इस मिश्रण को एक बोतल में भर लें और बच्चे को घूँट-घूँट कर के पिलाएँ।

Popular posts
मिलिए एंडटीवी के 'हप्पू की उलटन पलटन' की नई दबंग दुल्हनिया 'राजेश' उर्फ ​​गीतांजलि मिश्रा से!
Image
एण्डटीवी की नई प्रस्तुति ‘अटल‘ अटल बिहारी वाजपेयी के बचपन की अनकही कहानियों का होगा विवरण्
Image
"मैं अपने किरदार से गहराई से जुड़ा हूं क्योंकि उसी की ही तरह मैं भी कम शब्दों में बहुत कुछ कह देता हूं" ज़ी थिएटर के टेलीप्ले 'तदबीर' में वे एक पूर्व सेना अधिकारी की भूमिका निभा रहे हैं
Image
वार्ड क्रमांक 53 के पार्षद कोरोना कॉल में कर रहे जरूरतमंदों की लगातार मदद।
Image
हर जुबां पर बुंदेली ज़ायके का स्वाद चढ़ाने आ रहा बुंदेली शेफ सीजन-2 18 से 45 वर्ष तक की बुंदेली महिलाएं ले सकती हैं हिस्सा प्रतियोगिता में देश के किसी भी कोने से ले सकते हैं भाग बुंदेली शेफ विजेता को मिलेंगे 50 हजार रुपये तक के आकर्षक उपहार
Image