वाहक पंजाब के लॉजिस्टिक्स सेक्टर को दे रहा नई रफ़्तार  पंजाब की लॉजिस्टिक्स कंपनियाँ वाहक ऐप के ज़रिए एफएमसीजी, स्टील, केमिकल, पैकेजिंग और उससे जुड़े उद्योगों के लिए बेहतर फ्लीट यूटिलाइजेशन कर अपना प्रॉफिट मार्जिन लगातार बढ़ा रही हैं।


 बीते 1 साल में वाहक ऐप पर पंजाब स्थित कंपनी साइन-अप में 160 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई

है।   

बेंगलुरु और चंडीगढ़, सितंबर 5, 2022: साल 2020 में कोविड महामारी कि शुरुआत के बाद से भारत का सबसे भरोसेमंद

ट्रांसपोर्ट समुदाय - वाहक, पंजाब में अपना प्लैटफॉर्म यूज़र बेस तेजी से बढ़ा रहा है। बता दें कि बेंगलुरु स्थित वाहक,

एआई (AI) द्वारा सक्षम, भारत का सबसे बड़ा ओपन और फ्री ट्रांसपोर्ट प्लैटफॉर्म है। यह डिजिटल समुदाय भारत के सभी

लॉजिस्टिक्स प्लेयर्स के बीच एक डायरेक्ट कनेक्शन स्थापित कर ट्रांसपोर्ट एसएमई (SMEs) और लॉरी मालिकों के विशाल

इकोसिस्टम को बढ़ावा दे रहा है।

महामारी से लेकर अब तक हुई बढ़ोतरी के बारे में बात करते हुए, वाहक के सीईओ और सह-संस्थापक, करण शाहा ने

बताया कि, “वाहक ऐप का इस्तेमाल करते हुए पंजाब के ट्रक ड्राइवर महामारी के दौरान भी अपना काम सफलता पूर्वक

कर सके। जिसकी वजह से ज़रूरी सामानों की आपूर्ति भी समय पर हो सकी। वहीं, अब वे पहले की 15-17 दिनों के ट्रिप की

तुलना में, आज 25-26 दिनों के इंटर और इंट्रा स्टेट ट्रिप करने में सक्षम हो सके हैं। इसके परिणाम स्वरूप, बीते एक वर्ष में

हमारे पंजाब के यूजर बेस में लगातार वृद्धि हुई है। साथ ही लोड पोस्टिंग में 100 प्रतिशत और लॉरी पोस्टिंग में करीब 40

प्रतिशत से अधिक की वृद्धि दर्ज की गई है। हम कंटेनर, ट्रक और एलसीवी (LCVs) के लिए सबसे ज्यादा माँग देख रहे हैं।”

लॉजिस्टिक्स क्षेत्र को बढ़ावा देने वाले उपायों की बात करते हुए करण ने बताया कि, “हमारा लक्ष्य लॉजिस्टिक्स कॉस्ट को

कम करते हुए भारतीय लॉजिस्टिक्स क्षेत्र की परिचालन क्षमता (Operational Efficiencies) को बेहतर बनाना है। हमने

देखा है कि पंजाब में लॉजिस्टिक्स इंफ्रास्ट्रक्चर के सुधार के लिए जो सकारात्मक कदम सरकार ने उठाए हैं, उससे

प्रभावशाली लॉजिस्टिक्स इकोसिस्टम के मामले में राज्य की रैंकिंग सुधरी है। इस प्रगति में अपना योगदान देते हुए हम नए

फीचर्स और सुविधाओं के ज़रिए सभी लॉजिस्टिक्स प्लेयर्स को और भी अधिक सक्षम बनाने का प्रयास कर रहे हैं। इनमें

सुरक्षित एस्क्रो पेमेंट्स, फ्री डॉक्टरी परामर्श जैसी सेवाएं शामिल हैं। इसके अलावा कुछ नई मूल्य वर्धित सेवाएँ (Value

Added Services) भी इसका हिस्सा होंगी, जिसे जल्द ही लाइव किया जाएगा। हमारे यूज़र्स अपनी उंगलियों के इशारों


पर इनका लाभ ले सकेंगे। कुछ ऐसे प्रयासों का नतीजा है कि हमारे ऐप को पंजाब में तेज़ी से अपनाया जा रहा है। बीते

साल में, पंजाब राज्य से कंपनी साइन-अप में करीब 160 प्रतिशत की वृद्धि देखने को मिली है।” 

आज वाहक 0 प्रतिशत कमीशन पर ट्रक और लोड बुक करने की सुविधा प्रदान करने वाला भारत का पहला बी2बी

ट्रांसपोर्ट कम्युनिटी प्लेटफॉर्म बन चुका है जो ट्रकों, कंटेनरों, लाइट कमर्शियल गाड़ियों (LCVs) के अलावा दूसरे विशेष

वाहनों की सही क्षेत्रीय आवश्यकताओं के अनुरूप लोड दिलाने में मदद कर रहा है। 

इसके अलावा प्लैटफॉर्म पर होने वाले सुरक्षित एस्क्रो पेमेंट्स और जीएसटी और आधार वेरिफाइड यूज़र्स, पंजाब के

लॉजिस्टिक्स बिज़नेस से जुड़े लोगों को वाहक ऐप यूज़ करने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं। खासकर एफएमसीजी, स्टील,

केमिकल, पैकेजिंग और उससे जुड़े उद्योगों के लोड ट्रांसपोर्टेशन में वाहक अहम भूमिका निभा रहा है।


कैप्शन: वाहक की पारदर्शी बोली प्रक्रिया के साथ, पंजाब के ट्रांसपोर्टर और लॉरी मालिक सबसे बढ़िया दामों पर

आसानी से लोड या लॉरी बुक कर पा रहे हैं।


वाहक से एक परिचय

वाहक इंडिया का सबसे भरोसेमंद ट्रांसपोर्ट समुदाय है, जिसकी स्थापना साल 2019 में आईआईटी ग्रेजुएट करण शाहा और विकास चंद्रावत ने की थी।

यह प्लैटफॉर्म भारत के ट्रांसपोर्ट एसएमई (SMEs) और लॉरी मालिकों के विशाल इकोसिस्टम को बढ़ावा दे रहा है। वाहक पर ट्रकों, कंटेनरों और विशेष

वाहनों की आवश्यकता के अनुसार 0% कमीशन पर लोड बुक किया जा सकता है। वाहक ने भारतीय लॉजिस्टिक्स क्षेत्र के डिजिटाइजेशन का जो

सपना देखा है उस पर नेक्सस वेंचर पार्टनर्स, फंडामेंटल, आईसीड वेंचर्स, लियो कैपिटल, आरटीपी ग्लोबल, टाइटन कैपिटल और वर्क यूनिवर्स जैसे बड़े

इन्वेस्टरों ने भी भरोसा जताया है और आज उनकी मदद से वाहक भारत के रोड ट्रांसपोर्ट लॉजिस्टिक्स क्षेत्र का सर्वोच्च डिजिटल सॉल्यूशन बनता जा

रहा है। Know more on www.vahak.in I LinkedIn I YouTube I Instagram I Twitter I Facebook

Popular posts
मिलिए एंडटीवी के 'हप्पू की उलटन पलटन' की नई दबंग दुल्हनिया 'राजेश' उर्फ ​​गीतांजलि मिश्रा से!
Image
एण्डटीवी की नई प्रस्तुति ‘अटल‘ अटल बिहारी वाजपेयी के बचपन की अनकही कहानियों का होगा विवरण्
Image
"मैं अपने किरदार से गहराई से जुड़ा हूं क्योंकि उसी की ही तरह मैं भी कम शब्दों में बहुत कुछ कह देता हूं" ज़ी थिएटर के टेलीप्ले 'तदबीर' में वे एक पूर्व सेना अधिकारी की भूमिका निभा रहे हैं
Image
वार्ड क्रमांक 53 के पार्षद कोरोना कॉल में कर रहे जरूरतमंदों की लगातार मदद।
Image
हर जुबां पर बुंदेली ज़ायके का स्वाद चढ़ाने आ रहा बुंदेली शेफ सीजन-2 18 से 45 वर्ष तक की बुंदेली महिलाएं ले सकती हैं हिस्सा प्रतियोगिता में देश के किसी भी कोने से ले सकते हैं भाग बुंदेली शेफ विजेता को मिलेंगे 50 हजार रुपये तक के आकर्षक उपहार
Image