सासाकावा-इंडिया लेप्रोसी फाउंडेशन और ओरिएंटल यूनिवर्सिटी ने महात्मा गांधी के 'कुष्ठ मुक्त भारत' के अधूरे सपने को पूरा करने के लिए क्षेत्रीय युवा महोत्सव का शुभारंभ किया



 


इंदौर, 15 अक्टूबर 2022: सासाकावा-इंडिया लेप्रोसी फाउंडेशन (एस-आईएलएफ), ओरिएंटल यूनिवर्सिटी, इंदौर के सहयोग से तीन दिवसीय 'यूथ अगेंस्ट लेप्रोसी' महोत्सव का आयोजन कर रहा है। इस क्षेत्रीय युवा महोत्सव का उद्देश्य कुष्ठ रोग (लेप्रोसी) को लेकर देश में जागरूकता अभियान चलाना है, जिसका आयोजन 15, 16 और 17 अक्टूबर को ओरिएंटल विश्वविद्यालय परिसर, इंदौर में किया जा रहा है। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में श्री पुष्यमित्र भार्गव, मेयर- इंदौर और श्री प्रवीण ठकराल, चांसलर, ओरिएंटल यूनिवर्सिटी उपस्थित रहेंगे। 


 


कुष्ठ रोग या लेप्रोसी एक जीवाणु के कारण होता है, जिसका इलाज संभव है, जो कि नि:शुल्क उपलब्ध है। कुष्ठ रोग को लेकर जागरूकता बढ़ाने के कई अभियानों के बावजूद, कई मिथक और गलत धारणाएँ आज भी समाज में देखने को मिलती हैं। ऐसे में इस बीमारी के संबंध में युवा पीढ़ी, जागरूकता संदेश फैलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है। एस-आईएलएफ का 'यूथ अगेंस्ट लेप्रोसी' महोत्सव, गैर-कुष्ठ पृष्ठभूमि (विभिन्न कॉलेजों/विश्वविद्यालयों के छात्र) के युवाओं को कुष्ठ कॉलोनियों के युवाओं के साथ मिलनसार होने और बातचीत करने के लिए एक मंच प्रदान करता है। प्रतिभागी इस तीन दिवसीय महोत्सव के दौरान, प्रदर्शन कलाओं के तहत कई रचनात्मक गतिविधियों को उजागर करेंगे।


 


गौरतलब है कि दुनिया में कुष्ठ रोग के नए मामलों की सबसे बड़ी संख्या भारत में देखी गई है। ऐसे में इस कार्यक्रम से देश बहुत उम्मीदें हैं। अभियान के माध्यम से कुष्ठ रोग को लेकर दिए जा रहे सकारात्मक संदेश से समाज में इसके मिथकों पर न सिर्फ विराम लग सकेगा, बल्कि एक अधिक समावेशी समाज के सृजन में भी मदद मिलेगी। साथ ही साथ महात्मा गाँधी के 'कुष्ठ मुक्त भारत' के सपने को पूरा करते हुए कलंक और भेदभाव से निपटने में मदद मिल सकेगी।

Popular posts
मध्य प्रदेश विपणन संघ और परिवहन एजेंसी की लापरवाही उजागर
Image
नए अध्ययन में सामने आया कि भारत में हर 10 में से 9 ग्राहक सुरक्षा रेटिंग वाली कार खरीदना चाहते हैं इस सर्वे को स्कोडा ऑटो इंडिया ने कमीशन किया और एनआईक्यू बेसेस ने पूरा किया। भारत में 92 प्रतिशत ग्राहक क्रैश के लिए टेस्ट की गई और सेफ्टी रेटिंग की कार चाहते हैं। 47.6 प्रतिशत भारतीय कार में अन्य विशेषताओं से ज्यादा महत्व सुरक्षा को देते हैं। कार खरीदने के निर्णय में क्रैश-रेटिंग प्राथमिकताओं की सूची में सबसे ऊपर है। कार खरीदने के निर्णय में फ्यूल एफिशियंसी तीसरे स्थान पर है। 91 प्रतिशत का मानना है कि सुरक्षा विशेषताओं के आधार पर कारों को प्रोत्साहन देना काफी प्रभावशाली होगा। बच्चों/पीछे की सीट पर बैठे लोगों के लिए पृथक सुरक्षा रेटिंग को लेकर केवल 30 प्रतिशत ग्राहक जागरुक हैं। कार खरीदने के लिए सबसे पसंदीदा क्रैश रेटिंग 5-स्टार क्रैश रेटिंग है।
Image