वायसा दुनिया के सबसे लोकप्रिय मेंटल हेल्‍थ ऐप का हिंदी वर्जन विकसित करेगा आसान उपलब्‍धता के लिए व्हाट्सएप पर एआई थेरेपी चैट की पेशकश करने की योजना



अक्टूबर 2022 - व्यावहारिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए एआई - आधारित डिजिटल साथी, वायसा ने आज हिंदी भाषा में मेंटल हेल्‍थ ऐप पेश करने की योजना की घोषणा की है। इसे व्हाट्सएप के जरिये ऐक्सेस किया जा सकेगा। एसीटी , एक एनजीओ है जो लोकोपकार करने वाले मंच के रूप में काम करता है, इस पहल को समर्थन दे रहा है और विकास को आगे बढ़ाने के लिए एक को-फंडिंग पार्टनर की तलाश कर रहा है। अपेक्षा है कि 2023 के शुरू में पायलट चालू हो जाएगा।  

एसीटी की डायरेक्टर-हेल्थकेयर, नीता जॉय कहती हैं, ''हमारे लिए यह अपनी तरह का पहला प्रयास है कि एक स्थापित संस्था के साथ साझेदारी करके एक जाने-पहचाने और उपयोगी हल को लाखों लोगों तक पहुंचाया जा सके। हमारी 14% आबादी  मानसिक स्वास्थ्य विकारों से पीड़ित है और महामारी की वजह से गुणवत्ता देखभाल तक पहुंच की कमी बढ़ गई है। इस अंतर को भरने के लिए हमें नए उपकरणों की आवश्यकता है क्योंकि इस गुप्त मांग को पूरा करने के लिए पर्याप्त प्रशिक्षित देखभाल उपलब्‍ध नहीं हैं। ” 

हिंदी ऐप की पहली पुनरावृत्ति उपयोगकर्ताओं को संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी (सीबीटी) अभ्यास के माध्यम से मोबाइल फोन-आधारित संवाद एजेंट के साथ पाठ के माध्यम से मार्गदर्शन करेगा, जिससे उपयोगकर्ताओं को डिप्रेशन और चिंता को मैनेज करने में मदद मिलेगी। जो उपयोगकर्ता मामूली से गंभीर लक्षण दिखाते हैं, ऐप उनका मार्गदर्शन क्‍लीनिकल प्रोग्राम में करेगा। दूसरों के लिए यह वेलनेस टूल की तरह काम करेगा। 

वायसा अपनी स्केलेबिलिटी और कम लागत के कारण नियोक्ताओं तथा स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के बीच लोकप्रिय है। एआई आधारित ऐप होने के नाते, वायसा बदनामी और गोपनीयता की चिंता को दूर करता है जो अक्सर लोगों को उनके मानसिक स्वास्थ्य के लिए मदद मांगने से रोकता है। वायसा के अंग्रेजी वाले मेंटल हेल्‍थ  ऐप ने मुख्य रूप से बड़े बहुराष्ट्रीय नियोक्ताओं और सीधे उपभोक्ता के पास डाउनलोड के माध्यम से भारत में अब तक लगभग 528,000 लोगों की सेवा की है। ।

अपनी लोकप्रियता के बावजूद, हिंदी भाषा का सपोर्ट न होने से इसका विविध सामाजिक-आर्थिक समूहों और आम लोगों तक पहुंचना मुश्किल बना हुआ है। हिंदी में ऐप पेश करने का उद्देश्य पहुंच संबंधी इस बाधा को कम करना है, क्योंकि देश का एक बड़ा हिस्सा हिंदी में बातचीत करता है, और यह भारत में अधिकतर समुदायों के के लिए संचार और पहुंच बढ़ाने के लिए एक प्रमाणित और ठोस तंत्र लाता है।

भाषा की बाधा को दूर करने के साथ-साथ, व्हाट्सएप के माध्यम से वायसा के एआई थेरेपी संवादी एजेंट को उपलब्ध कराने का उद्देश्य उन लोगों से अपील करना है जो नए ऐप डाउनलोड करने से बचना पसंद करते हैं। व्हाट्सएप भारत में शीर्ष मैसेंजर ऐप्लिकेशन है जिसके 487 मिलियन उपयोगकर्ता हैं। व्हाट्सएप न केवल सर्वव्यापी है, बल्कि उच्च उपयोगकर्ता जुड़ाव भी सुनिश्चित करता है, क्योंकि अधिकांश आबादी नियमित संचार के लिए इस पर निर्भर है। इससे चिकित्सा संवाद को रोजमर्रा की जिंदगी का हिस्सा बनने में मदद मिलती है।

वायसा के सीईओ और सह-संस्थापक जो अग्रवाल ने कहा, “2025 तक 50 मिलियन उपयोगकर्ताओं की मदद करने की हमारी महत्वाकांक्षा में, हमें सभी के लिए मानसिक स्वास्थ्य सहायता तक पहुंच बनाने के लिए साक्षरता और भाषा की बाधाओं से परे जाना चाहिए। हमने दिखाया है कि वायसा के माध्यम से यह थेरेपी उन लोगों को आकर्षित करती है जो अपनी मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में बात करने के लिए आगे आने को तैयार नहीं हैं। हमें भारत में मानसिक स्वास्थ्य के कलंक पर काबू पाने के लिए एक लंबा रास्ता तय करना है। लेकिन मानसिक स्वास्थ्य के बारे में दुनिया भर में लोकप्रिय इस ऐप के हिंदी संस्करण के साथ, व्हाट्सएप के जरिये डिलीवर किया जाना इसकी शुरुआत के लिए एक शानदार जगह है।” 

वायसा में मुख्य मनोवैज्ञानिक स्मृति जोशी ने आगे कहा ‘भारत में उपयोग की जाने वाली सबसे लोकप्रिय भाषाओं में से एक, हिंदी में मानसिक स्वास्थ्य सहायता प्रदान करके, व्‍हाट्सऐप के जरिए,  एक ऐसा मंच जिसकी ग्रामीण क्षेत्रों में भी अधिकांश भारतीयों तक पहुंच है,  हम डिजिटल अंतर को कम कर रहे हैं।हम स्केलेबल, एकसमान और पहुंच योग्‍य भावनात्‍मक सपोर्ट प्रदान करने के अपने लक्ष्य के करीब जा रहे हैं।" 

क्लिनिकल साइकोलॉजिस्ट और सर गंगा राम अस्पताल, नई दिल्ली में वरिष्ठ सलाहकार, डॉ रोमा कुमार कहते हैं, "भारत में आबादी का एक बड़ा हिस्सा मुख्य रूप से हिंदी बोलता है, जो बदनामी के अलावा मानसिक स्वास्थ्य सहायता प्राप्त करने के लिए एक बड़ी भाषा बाधा है। हिंदी में वायसा न केवल मेट्रो शहरों बल्कि टीयर 2 और टीयर  3 तक पहुंचने की क्षमता रखता है। ऐसे शहर जहां मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दे अधिक प्रमुख हैं और कम चर्चा की जाती है। इस ऐप की सादगी और विज्ञान समर्थित तकनीक जैसे सीबीटी के साथ, हिंदी बोलने वालों के लिए अपनी मूल भाषा में मार्गदर्शन प्राप्त करना बेहद फायदेमंद है। मेरे कई वर्षों में काम में मानसिक स्वास्थ्य के क्षेत्र में, मैंने ऐसी पहल कभी नहीं देखी और मैं सकारात्मक हूं कि इससे बहुत से लोगों को लाभ होगा।" 

###

संपादकों के लिए नोट्स:

भारत - मानसिक स्वास्थ्य से जुड़े तथ्य

भारत में 14 प्रतिशत जनसंख्या मानसिक विकारों से पीड़ित होने का अनुमान है

2012 और 2030 के बीच भारत में मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति के कारण $1 ट्रिलियन अमरीकी डॉलर का नुकसान हुआ

एक अध्ययन के अनुसार भारत में >70% आम जनता मानसिक स्वास्थ्य को "बदनामी" से जोड़ती है

प्रति 100,000 की जनसंख्या पर लगभग 0.75 मनोचिकित्सक उपलब्ध हैं

भारत में प्रति 100,000 लोगों पर लगभग 0.07 मनोवैज्ञानिक/सामाजिक कार्यकर्ता उपलब्ध हैं, जबकि अमेरिका में 30 से अधिक लोग उपलब्ध हैं

पिछले पांच वर्षों में स्वास्थ्य बजट में मानसिक स्वास्थ्य आवंटन विकसित देशों में लगभग 5 प्रतिशत के मुकाबले <0.1% है। 

(स्रोत डेलॉइट रिपोर्ट "स्वास्थ्य देखभाल में जीवन विज्ञान")

Popular posts
पैशन के पीछे भागने से बेहतर उसे जीवित रखना - एक्टर-
Image
नुसरत भरुचा ने 'जनहित में जारी' के सेट से एक दिलचस्प वीडियो साझा किया; क्रू ने कॉमेडी ड्रामा की शूटिंग फिर से शुरू की*
Image
डालमिया भारत ने झारखंड में श्रावणी मेले के दौरान सामाजिक परिवर्तन की पहल से अपनी क्षेत्रीय उपस्थिति मजबूत की* सीमेंट क्षेत्र की नेतृत्वकारी कंपनी ने मेले में आने वाले भक्तों के स्वागत के लिए भगवान शिव के 16 फुट ऊंचे प्रतिरुप व दो कांवर स्थापित किया सामुदायिक प्रयासों में धैर्य व कौशल का प्रदर्शन करने वाले देवघर के नायकों के लिए जय कांवर अवार्ड की स्थापना कर कंपनी ने स्थानीय विशेषज्ञों को सलाम किया
Image
बॉलीवुड अभिनेता आयुष मेहरा ने एक रोमांचक प्रोजेक्ट की शूटिंग के दौरान दुबई शहर किया एक्स्प्लोर*
Image
ASUS strengthens pan India retail strategy with the launch of an Exclusive Store in Rajkot
Image