रामकृष्ण परमहंस के जीवन एवं वायर्ड पर आधारित फिल्म जगतगुरु श्री रामकृष्ण का ट्रेलर और गाना सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।



हजारीबाग : झारखंड स्वामी विवेकानन्द के गुरु श्री रामकृष्ण परमहंस के जीवन एवं वचन पर आधारित एक अच्छी फिल्म तैयार की गई है। फिल्म की स्क्रिप्ट श्री रामकृष्ण परमहंस के शिष्यों द्वारा लिखित पुस्तक श्री रामकृष्ण वचनामृत एवं श्री रामकृष्ण लीलाप्रसंग से तैयार की गई है। जिस्का ट्रेलर और गाने इन दिनों सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं। फिल्म का ट्रेलर और म्यूजिक यूट्यूब के साथ-साथ फेसबुक समेत अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर रिलीज किया गया। अब तक काफी अच्छे व्यूज मिल रहे हैं और लगातार व्यूज बढ़ रहे हैं।

भारत जिस समय आध्यात्मिक और भौतिक पतन की गति में था, तब एक ऐसा संत का जन्म भारत की धरती पर होता है जो त्याग ,कठिन तपस्या और आध्यात्मिक साधना से वेद ज्ञान की उपलब्धि हासिल करते हैं और भारत की दिशा दृष्टि ग्लोरी घोषणा तक पहुंच जाते हैं। कार्य अपने शिष्यों को आगे बढ़ाते हैं। उनके फैसलों को स्वामी विवेकानंद अमेरिका के साथ मिलकर कई देशों तक पहुंचने का काम करते हुए भारत की झलक दिखाते हैं।

 फिल्म जगतगुरु श्री रामकृष्ण में इसी सत्य को दिखाने का काम किया गया है। फिल्म के निर्माता गजानंद पाठक और निर्देशक बिमल कुमार मिश्र हैं। हजारीबाग के कलाकारों ने बहुत खूबसूरत अभिनय किया है। इस फिल्म में भजन सम्राट अनूप जलोटा एवं सुरस्व वाडकर ने भी गाने गाए हैं।

अनूप जलोटा के गाए गीत को स्वामी विवेकानंद जयंती के शुभ अवसर पर वीईसी फिल्म्स के यूट्यूब चैनल पर जारी किया गया है। झारखंड राज्य के लिए यह एक गौरव की बात है कि इस फिल्म का सूटिंग झारखंड में हुआ है। झारखंड के कलाकारों में अमरकांत, चांदनी, श्रेष्ठा, चंचला राय, मुकेश राम प्रजापति, मनोज पांडेय, गजानंद पाठक, संजय तिवारी, अभयांश, सुहान, ने बहुत ही सुन्दर अभिनय किया है। फिल्म का संगीत अजय मिश्रा ने दिया है और छायांकन राहुल पाठक हैं। वह फिल्म के पीआरओ युधिष्ठिर महतो हैं।

Popular posts
मध्य प्रदेश विपणन संघ और परिवहन एजेंसी की लापरवाही उजागर
Image
नए अध्ययन में सामने आया कि भारत में हर 10 में से 9 ग्राहक सुरक्षा रेटिंग वाली कार खरीदना चाहते हैं इस सर्वे को स्कोडा ऑटो इंडिया ने कमीशन किया और एनआईक्यू बेसेस ने पूरा किया। भारत में 92 प्रतिशत ग्राहक क्रैश के लिए टेस्ट की गई और सेफ्टी रेटिंग की कार चाहते हैं। 47.6 प्रतिशत भारतीय कार में अन्य विशेषताओं से ज्यादा महत्व सुरक्षा को देते हैं। कार खरीदने के निर्णय में क्रैश-रेटिंग प्राथमिकताओं की सूची में सबसे ऊपर है। कार खरीदने के निर्णय में फ्यूल एफिशियंसी तीसरे स्थान पर है। 91 प्रतिशत का मानना है कि सुरक्षा विशेषताओं के आधार पर कारों को प्रोत्साहन देना काफी प्रभावशाली होगा। बच्चों/पीछे की सीट पर बैठे लोगों के लिए पृथक सुरक्षा रेटिंग को लेकर केवल 30 प्रतिशत ग्राहक जागरुक हैं। कार खरीदने के लिए सबसे पसंदीदा क्रैश रेटिंग 5-स्टार क्रैश रेटिंग है।
Image