बुज़ुर्गों के लिए मानसिक शांति के साथ ही शारीरिक शां



इंदौर, जून, 2023: इंदौर स्थित समाजसेवी संस्था बीइंग रेस्पॉन्सिबल अपनी अनूठी पहल के चलते काफी चर्चा में है। संस्था द्वारा संचालित अपने तीनों डे केयर सेंटर्स व इंदौर के अन्य आनंदम सीनियर सिटीज़न सेंटर में मालिश की सेवाएँ उपलब्ध कराई जा रही हैं। निःस्वार्थ भाव से की जा रही यह पहल पूर्णतः निःशुल्क है, जिसका इन संस्थाओं के तमाम सदस्य भरपूर लाभ ले रहे हैं। हफ्ते में एक निश्चित दिन इन सेंटर्स पर मालिश की सुविधा देने का परिणाम यह हुआ है कि संस्था से जुड़े बुज़ुर्गों को शरीर की अकड़न और जोड़ों के दर्द से काफी हद तक राहत मिली है।


बीइंग रेस्पॉन्सिबल के रोहित ढोलिया कहते हैं, "शहर में कई डे केयर सेंटर्स वर्षों से संचालित हो रहे हैं, जो बुज़ुर्गों के लिए सेवा भावना रखते हैं। इन सेंटर्स में एक-दूसरे का साथ पाकर मानसिक दुःख-दर्द तो दूर हो जाते हैं, लेकिन शारीरिक समस्या पर कुछ कम ही असर देखने को मिलता है। उम्र के इस पड़ाव में यदि सबसे अधिक तकलीफ दायक है, तो वह है जोड़ों का दर्द। बहुत कम ही लोग होंगे, जो घर में मालिश संबंधी सेवाएँ ले पाते होंगे। बुज़ुर्गों की इस समस्या को बीइंग रेस्पॉन्सिबल ने पहचानने की कोशिश की है, जो फलतः सफल साबित हो रही है। इन्हें खुश देखकर मन को जो खुशी मिलती है, उसे शब्दों में बयां करना संभव नहीं है।"


चारों सेंटर्स में मालिश की यह सुविधा देने वाले अर्जुन महर कहते हैं, "जोड़ों का दर्द बुज़ुर्गों के बीच सबसे सामान्य समस्या है, जिसमें घुटनों के दर्द की सबसे अधिकता देखी जाती है। मालिश के बाद सदस्यों के चेहरों पर जो सुकून देखने को मिलता है, वह मेरी सारी मेहनत सफल कर जाता है। बीइंग रेस्पॉन्सिबल की इस पहल से जुड़ना मेरे लिए गर्व की बात है।"


शहर में वर्तमान समय में डे केयर सेंटर्स का चलन काफी तेजी से बढ़ा है, इसका सीधा कारण है अकेलापन। नई पीढ़ी यानि नाती-पोते मोबाइल और आईपैड में सीमित होकर रह गए हैं, वहीं बहु-बेटों को दो पैसे कमाने के लिए अधिकांश समय घर से बाहर ही बिताना पड़ता है। घर में अकेली रह जाती है बुज़ुर्ग पीढ़ी। शारीरिक रूप से कमजोर ये बुज़ुर्ग धीरे-धीरे मानसिक परेशानियों का सामना करने को मजबूर हो जाते हैं, जिसका प्रत्यक्ष कारण है कि दो बातें करने के लिए उनके पास कोई नहीं होता। इस प्रकार, यह समझा जा सकता है कि उम्र के इस विशेष पड़ाव में अपने हमउम्रों का साथ सबसे अधिक मायने रखता है। 60 वर्षों या उससे अधिक का तजुर्बा रखने वाले लोग इन संस्थाओं से जुड़ते हैं, और एक रंग में रंगकर जीवन के खूब आनंद लेते हैं। एक-दूसरे से घुलने-मिलने के साथ ही मालिश की इस निःशुल्क सुविधा ने उनकी महफिल में चार चाँद लगा दिए हैं।


यदि आप भी ऐसे किसी ग्रुप को जानते हैं, जहाँ इस सुविधा की जरुरत है, तो हमसे इस नंबर पर संपर्क कर सकते हैं: 8109741870

Popular posts
मिलिए एंडटीवी के 'हप्पू की उलटन पलटन' की नई दबंग दुल्हनिया 'राजेश' उर्फ ​​गीतांजलि मिश्रा से!
Image
चेन्नई प्लांट के उद्घाटन के साथ अपनी रणनीतिक पार्टनरशिप की शुरुआत करेंगे टीएसएफ ग्रुप और माइंड एस.आर.एल. लेगारो अपने ग्लोबल फुटप्रिंट्स के साथ सर्वश्रेष्ठ इटालियन और इंडियन कार्बन कंपोजिट को एकीकृत करता है। यह ब्रांड माइंड एस.आर.एल. की समृद्ध इटालियन मोटर वैली विरासत को साथ लाता है और ग्लोबल कार्बन कंपोजिट को, वास्तविकता के करीब एक कदम आगे ले जाने के लिए टीएसएफ समूह (तत्कालीन टीवीएस समूह का हिस्सा) का हाई- क्वालिटी स्केलेबल मैन्युफैक्चरिंग अनुभव प्रदान करता है।
Image
नेवर बैक डाउन : रिवोल्ट’ के हिंदी टेलीविजन प्रीमियर में देखिए अंडरग्राउंड अपराध की रोमांचक दुनिया की दिलचस्प दास्तान, 23 मार्च को एंड पिक्चर्स पर जरा सोचिए कि आप एक ऐसी स्थिति में फंस गए हैं, जहां से बाहर निकलने का सिर्फ एक ही तरीका है कि आप अपनी आजादी के लिए लड़ें।
Image
गोल्डनबॉय, पंकज आडवाणी मार्च में अजेय रहे या ऐसक्यूइस्ट पंकज आडवाणी मार्च में एक अजेय योद्धा बनने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।
Image
एमवे इंडिया ने युवाओं एवं महिलाओं के बेहतर स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने के लिए रेसलर संग्राम सिंह के साथ की साझेदारी
Image