राज्य साइबर सेल पुलिस को मिली बड़ी सफलता। गैंग ऑफ कार्ड्स बिना किसी वन टाइम पासवर्ड ,ओ टीपी के एटीएम कार्ड से रुपए उड़ाने वाले अंतरराष्ट्रीय गिरोह के 4 सदस्य राज्य साइबर पुलिस के हत्थे चढ़े।

उज्जैन राज्य साइबर पुलिस द्वारा लोगों के एटीएम से पैसे उड़ाकर ठगी करने वाले एक गिरोह को गिरफ्तार किया गया है। गिरोह द्वारा अभी तक 1 करोड़ से ज्यादा रूपए की ठगी की गई है। गैंग के चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर पूछताछ की जा रही है। भारतीय के कार्ड धारकों के अलावा विदेशी कार्डधारकों से भी कर चुके है ठगी।



 जिसके अर्न्तगत लोगों के ए.टी.एम कार्डस से रूपए उड़ाने वाले एक गिरोह अर्न्तराष्ट्रीय गिरोह को गिरफ्तार किया गया है। इस गिरोह के चारों सदस्य फिलहाल पुलिस की गिरफ्त में है। ये गिरोह लोगों के एटीएम से विदेशी वेबसाइटों के माध्यम से पैसा निकालते थे और उन रूपयों का उपयोग अपने गलत शौक जैसे लाइव पोर्नोग्राफी देखने, तीन पत्ती खेलने व पबजी खेलने के लिए करते थे। यह गैंग अपने काम को अंजाम देले के लिए रात 1 बजे का समय चुनती थी। इसके बाद कार्ड होल्डर के पास आधी रात और सुगह पैसे निकलने का मैसेज जाता था। आरोपियों के मुताबिक विदेशी वेबसाइटों से डेबिट/क्रेडिट कार्ड का डाटा खरदते थे। और इसे खरदने के लिए वे वर्चुअल करेंसी का उपयोग करते थे। इस डाटा में पूरा कार्ड नम्बर , एक्सपायरी डेट, सी.वी.पी नम्बर, कार्ड होल्डर का नाम, मोबाइल नम्बर व मेल आई डी मौजूद होता था। 



उज्जैन निवासी मंजू शर्मा पति रमेश चंद्र शर्मा के पास कल दिनांक 19.01.2019 को एक मैसेज आया कि उनके एसबीआई अकाउंट से 97 रूपए निकाले गए है। इस बात को देखते हुए वह बैंक पहुंची तो बैंक कर्मचारियों द्वारा बताया गया कि उनके अकाउंट से 11 जनवरी 2019 से 19 जनवरी 219 तक कुल 49000 को ट्रांन्जेक्शन टफकट़ों टुकड़ों में किया गया है। जिस पर राज्य साइबर सेल ने मामले को को गंभरता से लेकर बैंक स्टेटमेंट और प्राप्त मैसेज के आधार पर जानकारी एकत्रित की और चार आरोपियों खान फैसल, मतिउल्लाह खान, फिरोज आलम, शादाब अली को गिरफ्तार किया है। 


Popular posts
मध्य प्रदेश विपणन संघ और परिवहन एजेंसी की लापरवाही उजागर
Image
नए अध्ययन में सामने आया कि भारत में हर 10 में से 9 ग्राहक सुरक्षा रेटिंग वाली कार खरीदना चाहते हैं इस सर्वे को स्कोडा ऑटो इंडिया ने कमीशन किया और एनआईक्यू बेसेस ने पूरा किया। भारत में 92 प्रतिशत ग्राहक क्रैश के लिए टेस्ट की गई और सेफ्टी रेटिंग की कार चाहते हैं। 47.6 प्रतिशत भारतीय कार में अन्य विशेषताओं से ज्यादा महत्व सुरक्षा को देते हैं। कार खरीदने के निर्णय में क्रैश-रेटिंग प्राथमिकताओं की सूची में सबसे ऊपर है। कार खरीदने के निर्णय में फ्यूल एफिशियंसी तीसरे स्थान पर है। 91 प्रतिशत का मानना है कि सुरक्षा विशेषताओं के आधार पर कारों को प्रोत्साहन देना काफी प्रभावशाली होगा। बच्चों/पीछे की सीट पर बैठे लोगों के लिए पृथक सुरक्षा रेटिंग को लेकर केवल 30 प्रतिशत ग्राहक जागरुक हैं। कार खरीदने के लिए सबसे पसंदीदा क्रैश रेटिंग 5-स्टार क्रैश रेटिंग है।
Image