सहपाठी छात्रा कि फर्जी इंस्टाग्राम आईडी बनाकर परेशान करने वाला नाबालिक चढ़ा साइबर पुलिस के हत्थे।


उज्जैन देवास रोड स्थित स्कूल की कक्षा आठवीं की छात्रा को उसके सहपाठी छात्र द्वारा फर्जी इंस्टाग्राम आईडी बनाकर फरियादिया के फोटो अन्य युवक के साथ जोड़कर अपलोड कर परेशान करने पर पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया।
साइबर पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार वल्लभनगर उज्जैन निवासी अरुण (परिवर्तित नाम )द्वारा साइबर सेल में दिसंबर माह में शिकायत दर्ज कराई थी कि किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा उसकी नाबालिग पुत्री के फोटो का उपयोग कर व फोटो उसके साथ कक्षा में पढ़ने वाले अन्य युवक के साथ जोड़कर अश्लील शब्दों का प्रयोग कर फर्जी इंस्टाग्राम आईडी बनाई है। जिससे स्कूल व निवास क्षेत्र में नाबालिग के परिजनों को परेशानी हो रही है। इस पर अपराध क्रमांक 33 /20 धारा 66 सी 66डी 67 (आईटी एक्ट सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम )वह धारा 11 ,12 पॉक्सो एक्ट के अंतर्गत पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया था। विवेचना के दौरान आए डिजिटल तथ्य  व फेसबुक से प्राप्त जानकारी के आधार पर मोहन( परिवर्तित नाम )15 वर्ष निवासी इंदौर रोड़ उज्जैन से तकनीकी साक्ष्यों के आधार पर पूछताछ की गई इस पर नाबालिग ने बताया कि कक्षा के एक अन्य छात्र जो उसकी कक्षा में पढ़ता है, जीससे उसका झगड़ा था ।उससे बदला लेने के लिए उसने कक्षा में ही पढ़ने वाली छात्रा का फोटो उसके साथ जोड़कर अश्लील शब्दों का प्रयोग कर फर्जी इंस्टाग्राम आईडी बनाई थी ।अपचारी बालक ने बताया कि छात्रा के फोटो उसकी इंस्टाग्राम आईडी से लिए थे, आरोपी को गिरफ्तार कर घटना में प्रयुक्त मोबाइल फोन व सीम जब्त की है आरोपी की गिरफ्तारी में राज्य साइबर पुलिस उज्जैन के दल के निरीक्षक नरेंद्र गोमे, उप निरीक्षक गोपाल अजनार ,प्रधान आरक्षक हरेंद्र पाल सिंह राठौर, सुनील पवार ,तृप्ति लोधी व रजनी की महत्वपूर्ण भूमिका रही है।