अपने सपनों को हकीकत में बदलना परिचय: इस राष्ट्रीय बालिका दिवस पर, हम एक छोटे शहर की लड़की के धैर्य, दृढ़ता और जोश की कहानी सुनाते हैं जिनसे उसे कठिन समय का सामना करने में मदद की।

 अपने सपनों को हकीकत में बदलन


"साहस, बलिदान, दृढ़ संकल्प, प्रतिबद्धता, मजबूती, हृदय, प्रतिभा, हिम्मत। इन सबसे ही लड़कियां बनी होती हैं।" — बेथानी हैमिल्टन



जब आप एक बालिका को सशक्त बनाते हैं और उसे शिक्षित करते हैं तो आप एक बेहतर भविष्य के निर्माण में मदद करते हुए, पितृसत्ता और गरीबी की बेड़ियों को तोड़ते हुए और आर्थिक विकास में सहयोग करते हुए, एक राष्ट्र को सशक्त बनाते हैं। राष्ट्रीय बालिका दिवस, हर साल 24 जनवरी को मनाया जाता है, जो हमारे देश में लड़कियों को सहायता और नए अवसर प्रदान करने के साथ-साथ उनके सामने आने वाली असमानताओं, भेदभाव और शोषण के बारे में लोगों में जागरूकता पैदा करने पर ध्यान केंद्रित करता है। इस आंदोलन की शुरुआत महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने 2008 में की थी।


सरकार की पहल ने कई लड़कियों को सशक्त बनाया है, जिन्होंने अपनी सफलता की कहानियां स्वयं लिखी हैं। इस वर्ष, हम नीलम दानसेना की उपलब्धियों का जश्न मनाएंगे, जिन्होंने न केवल वैश्विक महामारी के दौरान अपने परिवार को बचाए रखने में मदद की, बल्कि एक छोटा बुटीक खोलने के अपने सपने की दिशा में भी काम कर रही है।


छत्तीसगढ़ के मिलूपारा गांव की रहने वाली नीलम दानसेना कहती हैं कि “मुझे पढ़ाई में और अपने गांव के सरकारी स्कूल में जाने में जितना मज़ा आता था, सिलाई में भी मुझे उतना ही मज़ा आता था। घर पर, मैं अपने दादाजी की सिलाई मशीन पर अभ्यास करती, जिसमें बटन टांकने, छोटी-मोटी सिलाई करने से लेकर बैग बनाना तक शामिल रहता था। मुझे उस पुरानी मशीन पर काम करना पसंद था।" नीलम के परिवार में उसके पिता हैं जो एक छोटी-सी निजी फर्म में काम करते थे, एक गृहिणी माँ थी और एक छोटा भाई था। जैसे-जैसे आर्थिक स्थिति खराब होती गई, यह सुनिश्चित करने के लिए कि उसका भाई स्कूल नहीं छोड़े, नीलम को अपनी पढ़ाई बंद करनी पड़ी।


नीलम ने जब स्कूल छोड़ा और घर के कामों पर ध्यान केंद्रित किया, तब वह 12वीं कक्षा में थी। वह हमेशा अपने परिवार को आर्थिक रूप से मदद करना चाहती थी। 22 वर्षीय नीलम ने बताया कि “कोविड -19 महामारी ने हमारे परिवार पर कहर बरपाया। मेरे पिता अकेले कमाने वाले थे, उनकी नौकरी छूट गई और उन्होंने खेती करना शुरू कर दिया। मेरे भाई की कक्षाएं ऑनलाइन हो गईं, और मैं अक्सर उसकी ऑनलाइन कक्षाओं के दौरान नई चीजें सीखने की कोशिश करती था। हमारी बचत कम होता जा रही थी, जिससे स्थिति बहुत कठिन होती जा रही थी।”


हालांकि मिलूपारा में नीलम और उनके जैसे कई अन्य लोगों के लिए, अदाणी कौशल विकास केंद्र (एएसडीसी) के जीवन-कौशल पाठ्यक्रम नई आशा की किरण के रूप में आए। नीलम ने बताया कि “महामारी से ठीक पहले, मैंने कुछ दोस्तों के साथ एएसडीसी की सिलाई कक्षाओं में दाखिला लिया। हालांकि हम चिंतित थे कि लंबे समय तक लॉकडाउन के कारण, ऑन-ग्राउंड प्रशिक्षण ठप हो सकता है, लेकिन जल्द ही पाठ्यक्रमों को ऑनलाइन कर दिया गया। मैं शुरुआत में थोड़ा अनिच्छुक थी, लेकिन फिर मेरा भरोसा जम गया।”


हम में से कई लोगों की तरह, जब नीलम ने अपना ऑनलाइन प्रशिक्षण शुरू किया, तो उसके सामने कुछ शुरुआती समस्याएं रहीं, लेकिन जल्द ही एक नया कौशल सीखने के अपने जोश और उत्साह के साथ, उसने उन सारी समस्याओं को दूर कर लिया। नीलम ने मुस्कुराते हुए बताया कि "सौभाग्य से, मेरे भाई और मेरी कक्षा का समय अलग-अलग था, इसलिए फोन को लेकर कोई झगड़ा नहीं होता था। हालांकि नेटवर्क कनेक्टिविटी हमेशा सबसे बड़ी बाधा बनी रही। लेकिन एएसडीसी के शिक्षक हमारे साथ बेहद धैर्यवान रहते थे और जब तक हम पूरी तरह से समझ नहीं लेते, तब तक वे चीजों को दोहराते रहते थे। हमारा पाठ्यक्रम 3-4 महीने का ही था, लेकिन हमें अगले 2-3 महीनों में रिविजन के लिए अन्य बैचों में शामिल होने की आजादी दे दी गई।”


प्रशिक्षण अवधि के दौरान, नीलम ने 200 फेस मास्क (कपड़ा और कपास के) बनाए, जो गांव के दुकानदारों द्वारा खरीदे और बेचे जाते रहे, जिससे उसकी आर्थिक स्थिति सुधारने में मदद मिली। इसके बाद, नीलम को छोटे-छोटे ऑर्डर मिलने लगे और कुछ ही महीनों में उसने ब्लाउज़, फ्रॉक, सलवार सूट, बैग, तकिये कुशन और अन्य कई चीजें सिलना शुरू कर दिया। नीलम ने कहा कि “जब एक बालिका के रूप में मैं परिवार की आर्थिक रूप से मदद कर रही हूं तो इससे मैं स्वयं को सशक्त महसूस करती हूं। मेरे पास और ऑर्डर आने लगे हैं और मैं इसका पूरा आनंद उठाती हूं।”


एक खुशहाल उद्यमी के रूप में काम कर रहीं नीलम कहती हैं कि “एएसडीसी मेरे जैसे कई लोगों को अपने घरों में ही रहकर एक टिकाऊ आय प्राप्त करने में मदद करने वाला शक्तिशाली उत्प्रेरक रहा है। मैंने हमेशा अपने गृहनगर में एक छोटा बुटीक खोलने का सपना देखा था और यहां मौजूद टीम अब मुझे उसके लिए मार्गदर्शन कर रही है।” यह पूछे जाने पर कि क्या वह भी निकट भविष्य में समूह के लिए प्रशिक्षक बनना चाहेंगी, नीलम का झट से जवाब आया कि "बिल्कुल, मेरे ट्यूटर्स ने मुझे बहुत अच्छी तरह से प्रशिक्षित किया है और अगर मौका दिया गया तो मैं इस ज्ञान को मेरी जैसी कई अन्य लड़कियों के साथ साझा करना पसंद करूंगी।"

Popular posts
हम फिल्म को यथासंभव वास्तविक रखना चाहते थे": नवोदित निर्देशक सुदर्शन गामारे*
Image
अपना दल (एस) मध्य प्रदेश कार्यकारिणी का गठन, विभिन्न पदों पर सौंपी जिम्मेदारियां अनुभवी, युवा व महिला सदस्यों पर जोर स्वदेशी कू समेत सभी सोशल प्लेटफॉर्म्स पर सक्रियता डिजिटल टूल्स द्वारा नए सदस्यों को जोड़ने की कवायद
Image
न्यूज 24 (बीएजी नेटवर्क) ने पॉडकास्ट 24- आवाज सबकी किया लॉन्च
Image
भारत का सबसे बड़ा कार डीलरशिप नेटवर्क, ग्रुप लैंडमार्क अब पंजाब पहुंचा o ग्रुप लैंडमार्क ने राज्य में दो नए लैंडमार्क शोरूम लॉन्च करते हुए पंजाब में अपनी मौजूदगी बढ़ाई। o जीप मेरिडियन में 2.0-लीटर टर्बोचार्ज्ड डीजल इंजन लगा हुआ है। o इस इवेंट में लोकप्रिय गायक जस्सी गिल के साथ ग्रुप लैंडमार्क की एम.डी गरिमा मिश्रा और सी.एम.ओ रेणुका डुडेजा ने भागीदारी की। लुधियाना, 21 मई, 2022: भारत में सबसे बड़े कार डीलरशिप नेटवर्क का परिचालन करने वाले, ग्रुप लैंडमार्क, ने पंजाब में दो नए लैंडमार्क शोरूम लॉन्च करने की घोषणा की। इन दो नए जीप लैंडमार्क शोरूम में से पहला लुधियाना में, और दूसरा जालंधर में स्थित है। कंपनी ने नई जीप मेरिडियन एसयूवी के साथ नए बाजार में अपनी मौजूदगी दर्ज की है, जिसे हाल ही में 29.9 लाख रुपये से लेकर 36.95 लाख रुपये (एक्स-शोरूम) की प्रारंभिक मूल्य सीमा के साथ लॉन्च किया गया था। इस मेड-इन-इंडिया और मेड-फॉर-इंडिया थ्री-रो जीप एसयूवी को लुधियाना के लैंडमार्क जीप शोरूम में एक इवेंट में प्रदर्शित किया गया, जिसमें लोकप्रिय गायक जस्सी गिल तथा ग्रुप लैंडमार्क की एम.डी गरिमा मिश्रा और सी.एम.ओ रेणुका डुडेजा ने भाग लिया। पंजाब में दो नए लैंडमार्क शोरूम के लॉन्च के मौके पर, ग्रुप लैंडमार्क के चेयरमैन और संस्थापक, संजय ठक्कर ने कहा कि "1998 से, ग्रुप लैंडमार्क ने अपना ध्यान देश में कार खरीदारों को एक नया अनुभव प्रदान करने पर केंद्रित किया है, जिसकी वजह से कंपनी इंडस्ट्री की प्रमुख कंपनी के रूप में विकसित हुई है, और इस उपलब्धि को हासिल करने में देश भर में बेहतरीन कार डीलरशिप के विशाल नेटवर्क की महत्वपूर्ण भूमिका है। इस विकास यात्रा को जारी रखते हुए, पंजाब हमारे लिए साफ तौर पर एक पसंदीदा जगह थी, क्योंकि क्षेत्र के निवासियों की बढ़ती संपन्नता के कारण, यह राज्य क्षमताओं से भरा हुआ है। जीप मेरिडियन पहले से ही जोखिम उठाने की अपनी साहसिक विशेषज्ञता के लिए जाना जाता है और अब यह वाहन राज्य में ग्रुप लैंडमार्क की मौजूदगी की घोषणा करने के लिए एक आदर्श वाहन के रूप में मौजूद रहा।” पंजाब के ऑटोमोटिव बाजार में ग्रुप लैंडमार्क का प्रवेश ग्रुप लैंडमार्क के दो जीप डीलरशिप के लॉन्च के साथ शुरू हो गया है: एक जालंधर में और दूसरा लुधियाना में। जालंधर शोरूम, जीटी रोड पर स्थित है, जो कुल 12,000 वर्ग फुट के क्षेत्र में फैला हुआ है, और लुधियाना शोरूम कुल 8,000 वर्ग फुट के क्षेत्र में फैला हुआ है। जीप मेरिडियन अपने साथ उत्साह और विशेषज्ञता का एक अनूठा मिश्रण लेकर आया है, जिसमें एडवान्स्ड आर्किटेक्चर, शानदार डिजाइन, शक्तिशाली तकनीकी खूबियों और पूरे सेगमेंट में अग्रणी रूप से मौजूद कई विशेषताएं हैं। इसके अलावा, इसमें फ़्रीक्वेंसी सेलेक्टिव डैम्पिंग (एफएसडी) तकनीक के साथ पूरी तरह से स्वतंत्र फ्रंट एवं रियर सस्पेंशन सेटअप, सबसे अच्छा कूलिंग परफॉरमेंस आदि शामिल हैं। जीप मेरिडियन 2.0-लीटर टर्बोचार्ज्ड डीजल इंजन द्वारा परिचालित है जो 3,750 आरपीएम पर 125 किलोवाट (170 एचपी) जेनेरेट करता है और 1,750-2,500 आरपीएम के बीच 350 एनएम का अधिकतम टॉर्क उपलब्ध है। दोनों उपलब्ध ट्रिम्स, यानी लिमिटेड और लिमिटेड (O), 4x2 फ्रंट-व्हील ड्राइव और छह-स्पीड मैनुअल ट्रांसमिशन और नौ-स्पीड ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन के विकल्प के साथ उपलब्ध हैं। लिमिटेड (O) ट्रिम में 4x4 ऑल-व्हील ड्राइव के साथ नौ-स्पीड ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन भी उपलब्ध है। ग्रुप लैंडमार्क के बारे में ग्रुप लैंडमार्क भारत में सबसे बड़े प्रीमियम और लक्जरी ऑटोमोटिव रिटेल व्यवसायों में से एक है, जिसमें मर्सिडीज-बेंज, वोक्सवैगन, होंडा, जीप, रेनॉल्ट और बीवाईडी जैसे शीर्ष स्तरीय ब्रांड की डीलरशिप उपलब्ध है। ग्राहकों को शुरू से अंत तक अद्वितीय खरीदारी अनुभव प्रदान करने के लिए, कंपनी सामान्य ऑटोमोटिव डीलरशिप के दायरे से आगे है, क्योंकि ऑटोमोटिव रिटेल वैल्यू चेन में ग्रुप लैंडमार्क की मजबूत उपस्थिति है। इसके अलावा, इसमें नए वाहनों की बिक्री के अलावा कई सारी सेवाएं शामिल हैं, जैसे पूर्व-स्वामित्व वाले यात्री वाहनों की आफ्टर-सेल्स सर्विस और थर्ड पार्टी फाइनेंशियल और इंश्योरेंस प्रोडक्ट्स। ग्रुप लैंडमार्क ने 1998 में अपनी पहली डीलरशिप शुरू की, और तब से, आठ राज्यों में 115 आउटलेट्स को शामिल करके अपने नेटवर्क का विस्तार किया है। ग्रुप लैंडमार्क के बारे में अधिक जानकारी के लिए देखें: www.grouplandmark.in
Image
साक्षी तंवर हमारे देश की बेहतरीन अभिनेत्रियों में से एक हैं’’ अनिल कपूर, अनुष्‍का शर्मा ने नेटफ्लिक्‍स इंडिया के ‘माई’ पर की तारीफों की बौछार
Image