अक्षय कुमार कहते हैं, "मैंने अपनी ज़िंदगी में तीन चीजें समझी हैं - काम, कमाई और कर्म"*


 

अक्षय कुमार ने हमेशा ये साबित किया है कि वो एक गज़ब के मास एंटरटेनर हैं। इस भरोसेमंद सितारे को दर्शकों से जुड़ने और जबर्दस्त भीड़ इकठ्ठा करने में महारत हासिल है। अक्षय अपने गेम में टॉप पर हैं और अब, बच्चन पांडे के वर्ल्ड टेलीविज़न प्रीमियर के साथ, वो एक बार फिर अपने अचूक स्वैग, अपने बेमिसाल अंदाज़ और गज़ब की स्टार पावर के साथ वापस लौट आए हैं! इस अवतार को निभाने की अपनी यात्रा के बारे में बताते हुए, अक्षय कुमार ने अपनी इस प्रोसेस, अपने को-स्टार्स और बहुत-सी बातों पर चर्चा की। उनकी फिल्म बच्चन पांडे का वर्ल्ड टेलीविजन प्रीमियर 31 जुलाई को रात 8 बजे ज़ी सिनेमा पर हो रहा है।


- फिल्म में आपका लुक हिलाकर रख देने वाला था, इसकी प्रक्रिया कैसी थी?


मैंने अतीत में कुछ ग्रे किरदार निभाए हैं और महसूस किया है कि हर व्यक्ति में एक नकारात्मक तत्व होता है। आपको बस इतना करना है कि जब आप ऐसे किसी किरदार को स्क्रीन पर निभाएं तो उस तत्व को बाहर लाएं। इसमें एकमात्र मुश्किल हिस्सा अपनी पत्थर की आंख के लिए विशाल लेंस पहनना था। कुल मिलाकर, मेरा लुक मेरे पिछले सभी किरदारों से बहुत अलग था और इसके फाइनल लुक में आना बड़ी दिलचस्प प्रक्रिया थी।

 

- कृति सैनन और अरशद वारसी के साथ काम करना कैसा रहा?


एक किरदार को समझना और उसमें ढलना हमेशा आसान नहीं होता है। लेकिन कृति इसे बड़ी आसानी से कर लेती हैं। जब बात अपने किरदार की आती है, तो वह काफी फोकस्ड रहती हैं जो कि बहुत महत्वपूर्ण है। अरशद के बारे में कहूं तो वो एक एक्सपर्ट हैं, वो सेट पर इतना स्वाभाविक होता है, जो आप पर भी भारी पड़ता है। पूरी टीम जैसलमेर में एक साथ शूटिंग कर रही थी। जब आप इतना समय एक साथ बिताते हैं, तो आप सीखते हैं, अनलर्न करते हैं, फिर से सीखते हैं, बिल्कुल एक परिवार की तरह!

 

- बच्चन पांडे में आप क्या खासियत देखते हैं?


यह एक कमर्शियल मसाला फिल्म है और मैं काफी समय बाद इस तरह की फिल्म कर रहा हूं। वो मेरे लिए सबसे रोमांचक था। साथ ही मैं लंबे समय के बाद एक ग्रे किरदार निभा रहा था और मैं इसका मज़ा ले रहा था। मेरे लिए, यह किरदार निभाना भी खास था - जो पहले बड़ा खतरनाक होता है, लेकिन जैसे-जैसे कहानी सामने आती है, धीरे-धीरे आपको उससे प्यार होने लगेगा। 


- आप इंडस्ट्री के सबसे व्यस्त एक्टर्स में से एक हैं। हमें अपने सफलता के मंत्र के बारे में बताएं?


लोग मुझसे कहते हैं कि तुम एक साल में इतनी फिल्में क्यों करते हो? लेकिन मैंने अपनी ज़िंदगी में तीन चीजें समझी हैं - काम, कमाई और कर्म! मैं जितनी मेहनत कर सकता हूं, उतनी मेहनत करता हूं ताकि मैं उतना कमा सकूं। मैं अपने रास्ते में आने वाले किसी भी काम को ना नहीं कहता - कैसा भी रोल हो, कोई भी फंक्शन हो, किसी भी चीज़ की ऐड करनी हो। क्योंकि काम से आती है कमाई और उससे मैं अच्छे कर्म करने की कोशिश करता हूं। तो आप जितना काम करते हैं, उतना कमाते हैं और समाज को उतना ही वापस देते हैं। मुझे नहीं लगता कि इसमें कुछ गलत है।

Popular posts
फ्रैंकलिन टेम्पलटन मध्य प्रदेश में फ्रैंकलिन इंडिया बैलेंस्ड एडवांटेज फंड (FIBAF) कर रहे हैं लॉन्च • FIBAF का लक्ष्य फ्रैंकलिन टेम्पलटन के इन-हाउस प्रोप्रिटेरी डायनामिक अस्सेस्ट एल्लोकेशन मॉडल से प्राप्त, दोनों दुनिया के सर्वश्रेष्ठ को जोड़ना है • फ्रैंकलिन टेम्पलटन के लिए मध्य प्रदेश एक प्रमुख ग्रोथ मार्केट है, जिसका उद्योग एयूएम इंदौर, भोपाल, जबलपुर और ग्वालियर सहित अन्य जैसे शहरों में लगभग ५२,000 करोड़ रूपए का है
Image
मैंने इस शो से शिक्षा की अहमियत सीखी हैं‘‘ - आयुध भानुशालीं, भीमराव, एण्डटीवी के ‘एक महानायक डाॅ बी. आर. आम्बेडकर‘
Image
Clensta Covid 19 Protection Lotion – your long term shield against COVID 19 & the harmful effects of hand sanitisers
Image
भारत में पहली बार आयोजित की जा रही इंटरनेशनल एडवरटाइजिंग कॉन्फ्रेंस 2021
Image
मातृ दिवस‘ पर देखिये एण्डटीवी के आॅन-स्क्रीन माँ-बच्चों का खट्टा-मीठा रिश्ता
Image