अदाणी एग्री फ्रेश ने किसानों से 2,500 टन सेब खरीदा अगस्त 31, 2021: अदाणी एग्री फ्रेश ने इस साल खरीद (प्रोक्योरमेंट) सीजन के पहले तीन दिनों के भीतर ही किसानों से लगभग 2,500 टन सेब खरीदा है।



किसानों की ओर से कंपनी को जबरदस्त प्रतिक्रिया मिली, क्योंकि अदाणी एग्री फ्रेश ने मंडियों की तुलना में अधिक कीमतों का ऑफर दिया था।

 

अदाणी एग्री फ्रेश शिमला जिले में 'कंट्रोल्ड एटमॉस्फीयर फैसिलिटीज' के जरिये सेब खरीदती है और 'फार्म-पिक' ब्रांड नाम से इसका प्रसार करती है।


सेब खरीद सीजन पिछले सप्ताह शुरू हुआ था और यह अक्टूबर के अंत तक जारी रहेगा।


हिमाचल प्रदेश में अदाणी एग्री फ्रेश के अधिकारी ने बताया कि खरीद सीजन के पहले ही दिन उन्हें लगभग 1,000 टन सेब प्राप्त हुए, जबकि पिछले वर्षों के दौरान लगभग 300 टन सेब ही मिले थे।


अधिकारी ने अपना नाम न छापने का अनुरोध करते हुए कहा कि "अदाणी एग्री फ्रेश सेब की खरीद प्रति किलोग्राम के आधार पर करता है, जबकि उसे मंडियों में प्रति बॉक्स बेचना पड़ता है। बॉक्स के आकार के बजाय सेब के हर ग्राम के लिए रिटर्न पाकर किसान खुश हैं।" 


लेकिन जब कुछ मीडिया हाउस ने रिपोर्ट दी कि अदाणी एग्री फ्रेश ने इस सीजन में सेब की खरीद कीमतों को संशोधित कर दिया है तो अदाणी एग्री फ्रेश राजनेताओं के एक वर्ग के निशाने पर आ गया। 


कंपनी के अधिकारी ने दावा किया कि मंडियां अपनी सेब खरीद कीमतों को बढ़ाने के लिए मजबूर हैं क्योंकि कंपनी किसानों को बेहतर सौदे दे रही है। उन्होंने कहा कि "अदाणी एग्री फ्रेश ने बाजार और किसानों के हितों के अनुरूप खरीद मूल्य निर्धारित किया है।"


सीजन के लिए अदाणी एग्री फ्रेश की खरीद कीमतों पर मीडिया के एक वर्ग द्वारा की गई रिपोर्ट और राजनेताओं की आलोचना का खंडन करते हुए, ऊपरोक्त अधिकारी ने कहा कि "सेबों के व्यापार में सैकड़ों व्यापारी, कमीशन एजेंट और अन्य बिचौलिए काम करते हैं और यह किसानों की पसंद है कि वे किसे अपनी उपज बेचना चाहते हैं। हालांकि, उन्होंने अदाणी एग्री फ्रेश को आपूर्ति करना जारी रखा है जो सेब की कीमतें गिरने के बावजूद, मंडियों की तुलना में अधिक कीमतें दे रहे हैं। प्रति किलोग्राम भुगतान करने के अलावा, हमने मूल्य निर्धारण के लिए प्रामाणिक सॉर्टिंग और ग्रेडिंग का भी ऑफर दिया है, जिससे किसानों को काफी फायदा पहुंच रहा है।"

उन्होंने कहा कि अदाणी एग्री फ्रेश ने किसानों और एंड-यूजर्स दोनों के हित में सेब की पैकेजिंग और लॉजिस्टिक्स में बेहतर कृषि पद्धतियों और अंतरराष्ट्रीय मानकों का पालन किया है।


अदाणी एग्री फ्रेश ने लगभग 15 वर्ष पहले हिमाचल प्रदेश में सेब के व्यापार में प्रवेश किया था और आज यह शिमला, किन्नौर और कुल्लू घाटियों के 700 गांवों में फैले 17,000 से अधिक किसानों से सौदे करती है।


कंपनी अपनी फील्ड टीम के जरिये किसान को फसल कटाई से पहले और बाद में परामर्श सुविधा मुहैया कराती है, ताकि उन्नत गुणवत्ता के साथ उत्पादन बढ़ाया जा सके।

Popular posts
टैफे ने उत्तर प्रदेश में लॉन्च किया मैसी फ़र्ग्यूसन 7235 - ढुलाई और कमर्शियल कार्यों के लिए स्पेशल ट्रैक्टर
Image
जेसीबी साहित्य पुरस्कार 2021 (JCB Prize for Literature 2021) लॉन्गीलिस्टf की घोषणा ● भारतीय लेखन के लिए सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कारों की लॉन्गंलिस्टा में इस वर्ष 6 नई एंट्री के साथ नवोदित लेखकों का दबदबा है।
Image
BalleBaazi.com ने सबसे दमदार टीम-मेकिंग टूल ‘प्लेpयर इंटेलिजेंस’ लॉन्च6 किया, जो फैंटेसी क्रिकेट की दुनिया में एक नई क्रांति है
Image
Coca-Cola India announces the appointment of Sonali Khanna as Vice President and Operating Unit Counsel for Coca-Cola India and South West Asia
Image
एण्डटीवी के कलाकारों ने साल 2021 का स्वागत करते हुए बताया कि साल 2020 से उन्हें क्या-क्या सीख मिली है
Image